Subscribe Now!

कैसे, वाल्मीकि जी के हृदय का शोक बना श्लोक

  • कैसे, वाल्मीकि जी के हृदय का शोक बना श्लोक
You Are HereDharm
Tuesday, January 23, 2018-2:25 PM

महर्षि वाल्मीकि जी प्रचीन भारतीय महर्षि हैं। वाल्मीकि जी आदिकवि के रूप में प्रसिद्ध हैं। वाल्मीकि ऋषि ने संस्कृत के प्रथम महाकाव्य की रचना की थी जो रामायण के नाम से प्रसिद्ध है। उनके द्वारा रची रामायण वाल्मीकि रामायण कहलाई। वाल्मीकि एक आदिकवि थे पर उनकी विशेषता यह थी कि वे कोई ब्राह्मण नहीं थे, बल्कि केवट थे। लेकिन उनको ये कवित्व की शक्तियां कैसे मिली इसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। आईए जानें इस से संबंधित पौराणिक कथा-


एक समय की बात है, ब्रह्मा जी ने सरस्वती से कहा तुम किसी योग्य पुरुष के मुख्य में कवित्व शक्ति होकर निवास करो। ब्रह्मा जी की आज्ञा मानकर सरस्वती योग्य पात्र की खोज में बाहर निकलीं। उन्होंने ऊपर के सत्यादि लोकों में भ्रमण करके देवताओं में पता लगाया तथा नीचे के सातों पातालों में घूमकर वहां के निवासियों में खोज की किंतु कहीं भी उनको सुयोग्य पात्र नहीं मिला। इसी अनुसंधान में एक पूरा सतयुग बीत गया।

तदंतर त्रेता युग के आरंभ में सरस्वती देवी भारतवर्ष में भ्रमण करने लगीं। घूमते-घूमते वह तमसा नदी के किनारे पर पहुंचीं। वहां महा तपस्वी महर्षि वाल्मीकि अपने शिष्यों के साथ रहते थे। वाल्मीकि उस समय अपने आश्रम के इधर-उधर घूम रहे थे। इतने में ही उनकी दृष्टि एक क्रौंच पक्षी पर पड़ी जो तत्काल ही एक व्याध के बाण से घायल हो पंख फड़-फड़ाता हुआ गिरा पड़ा था। पक्षी का पूरा शरीर लहू-लुहान हो गया। वह पीड़ा से तड़प रहा था और उसकी पत्नी क्रौंची उसके पास ही गिरकर बड़े आर्त स्वर मैं चैं चैं कर रही थी। पक्षी के उस जोड़े कि यह दयनीय दशा देख कर दयालु महर्षि अपनी सहज करुणा से द्रवीभूत हो उठे। उनके मुख से तुरंत ही एक श्लोक निकल पड़ा, जो इस प्रकार है :-

 
मा निषाद प्रतिष्ठां त्वमगम: शाश्वती समा: ।
यत् क्रौंचमिथुनादेकमवधी: काममोहितम् ।।


यह श्लोक सरस्वती की ही कृपा का प्रसाद था। उन्होंने महर्षि को देखते ही उनकी असाधारण योग्यता और प्रतिभा का परिचय पा लिया था। उन्हीं के मुख में उन्होंने सर्वप्रथम प्रवेश किया ।


कवित्व शक्ति मयी सरस्वती की प्रेरणा से ही उनके मुख की वह वाणी, जो उन्होंने क्रौंची की सान्त्वना के लिए कही थी छंदोमयी बन गई। उनके हृदय का शोक ही श्लोक बनकर बाहर निकला गया।

”शोक: श्लोकत्वमागत: ”

 
मां सरस्वती के कृपा पात्र होकर महर्षि वाल्मीकि ही “आदिकवि” के नाम से संसार में बिख्यात हुए ।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You