ओखी तूफान:लापता मछुआरों के परिजनों को किसी चमत्कार की उम्मीद

  • ओखी तूफान:लापता मछुआरों के परिजनों को किसी चमत्कार की उम्मीद
You Are HereLatest News
Wednesday, December 06, 2017-10:32 PM

पूंथरा (केरल): तटीय राज्य केरल में ओखी चक्रवात आने के बाद समुद्र में लापता हुए 29 मछुआरों में से एक की पत्नी सेल्वी अपनी चार बेटियों के साथ सेंट थॉमस चर्च में एक सप्ताह से अपने पति के वापस लौटने की उम्मीद में किसी चमत्कार की आस लगाए हुए है और प्रार्थना कर रही है। सेल्वी हर सुबह चर्च में आकर प्रार्थना करती है और मोमबत्ती जलाकर यह उम्मीद करती है कि उसका पति एक दिन घर वापस जरूर लौटेगा।

उन्होंने रोते हुए कहा, ‘‘मैं अपने चार बच्चों के साथ कहां जाऊंगी? मेरी बड़ी बेटी केवल सात वर्ष की है और दो अन्य बेटियां पांच और तीन वर्ष की है।’’ सेल्वी ने कहा, ‘‘मेरा अपना कोई घर नहीं है। मेरे पति मछली पकड़कर घर चलाते थे और वही हमारा आय का स्रोत था।’’ चर्च के पादरी फादर जस्टिन जूड ने कहा कि 29 नवंबर की तड़के यहां से 0 मछुआरे 2 नौकाओं से समुद्र में मछली पकडऩे गए थे। इनमें से 57 सुरक्षित वापस लौट आए थे। चार मछुआरों की मौत हो गई थी और 29 अन्य लापता हैं।

सुरक्षित वापस लौटे 40 वर्षीय एक मछुआरे सुरेश ने कहा कि ईश्वर की वजह से वह मौत के मुंह से बचकर वापस आ गया। अपने दो साथियों के साथ लौटे सुरेश ने कहा, ‘‘वास्तव में यह मेरे लिए दूसरा जीवन है। मेरी नौका ने अनियंत्रित ढंग से बढऩा शुरू कर दिया था क्योंकि वह चक्रवात की चपेट में आ गई थी।’’ उसका एक करीबी रिश्तेदार अभी भी लापता है।

उसने कहा, ‘‘मैं पिछले दस साल से समुद्र में जा रहा था। मैंने विभिन्न तूफानी मौसमों को देखा है लेकिन हमने इस बार काफी जबर्दस्त और बहुत शक्तिशाली चक्रवात का सामना किया।’’ 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You