शादी या ब्रह्मचर्य, आदमी चाहे जो भी रास्ता चुन ले उसे बाद में पछताना ही पड़ता है

  • शादी या ब्रह्मचर्य, आदमी चाहे जो भी रास्ता चुन ले उसे बाद में पछताना ही पड़ता है
You Are HereMantra Bhajan Arti
Monday, September 26, 2016-3:11 PM

सुकरात के अनमोल वचन


* जहां सम्मान है वहां डर है लेकिन ऐसी हर जगह सम्मान नहीं है जहां डर है क्योंकि संभवत: डर सम्मान से ज्यादा व्यापक है। 


* एक ईमानदार आदमी हमेशा एक बच्चा होता है।


* चाहे जो हो जाए, शादी कीजिए। अगर अच्छी पत्नी मिली तो आपकी जिंदगी खुशहाल रहेगी, अगर बुरी पत्नी मिलेगी तो आप दार्शनिक बन जाएंगे। 


* मृत्यु संभवत: मानवीय वरदानों में सबसे महान है।


* अधिकतर आपकी गहन इच्छाओं से ही घोर नफरत पैदा होती है। 


* सिर्फ जीना मायने नहीं रखता, सच्चाई से जीना मायने रखता है। 


* मित्रता करने में धीमे रहिए लेकिन जब कर लीजिए तो उसे मजबूती से निभाइए और उस पर स्थिर रहिए। 


* जिंदगी नहीं बल्कि एक अच्छी जिंदगी को महत्ता देनी चाहिए। 


* हर व्यक्ति की आत्मा अमर होती है लेकिन जो व्यक्ति नेक होते हैं उनकी आत्मा अमर और दिव्य होती है। 


* हमारी प्रार्थना बस सामान्य रूप से आशीर्वाद के लिए होनी चाहिए क्योंकि भगवान जानते हैं कि हमारे लिए क्या अच्छा है।


* शादी या ब्रह्मचर्य, आदमी चाहे जो भी रास्ता चुन ले उसे बाद में पछताना ही पड़ता है।
 

* वह सबसे धनवान है जो कम से कम में संतुष्ट है क्योंकि संतुष्टि प्रकृति की दौलत है।


* सौंदर्य एक अल्पकालिक अत्याचार है। 


*अपने आपको खोजने के लिए खुद के प्रति सोचो।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You