शादी के लिए अब बैंक से पैसा निकालने नहीं होगा आसान!

  • शादी के लिए अब बैंक से पैसा निकालने नहीं होगा आसान!
You Are HereNational
Friday, November 18, 2016-7:47 PM

नई दिल्ली: नोटबंदी के कारण शादी-विवाह वाले परिवारों को होने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए बैंक से ढाई लाख रुपए निकालने की छूट के दुरुपयोग की शिकायतों के समाधान के लिए शादी के कार्ड पर मजिस्ट्रेट के हस्ताक्षर के साथ बैंक एवं शाखा को भी इंगित किया जाएगा।  सरकार में उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि नोटबंदी के प्रभाव से जरूरतमंद लोगों को राहत देने के उपायों का दुरुपयोग किए जाने के क्रम में ऐसी शिकायतें मिलीं हैं कि लोग शादी के कार्ड पर मजिस्ट्रेट से हस्ताक्षर लेने के बाद कई शाखाओं में जाकर ढाई-ढाई लाख रुपए निकाल रहे हैं। 

भारतीय रिजर्व बैंक जल्द ही जारी कर सकता है एक निर्देश
सूत्रों ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक जल्द ही एक निर्देश जारी कर सकता है कि मजिस्ट्रेट शादी के कार्ड पर हस्ताक्षर के साथ बैंक की शाखा भी अंकित करे ताकि धारक उस कार्ड से ही एक बार में विभिन्न शाखाओं से धन न निकाल सकें।  पांच सौ और एक हजार रुपए के प्रचलन को बंद किए जाने से हो रही परेशानियों के मद्देनजर सरकार ने गुरुवार को किसानों, छोटे कारोबारियों और समूह सी तक के केंद्रीय कर्मचारियों को राहत पहुंचाने के लिए कई घोषणाएं की थीं। इसी के तहत जिस परिवार में शादी है उसके किसी एक सदस्य को केवाईसी (अपने ग्राहक को जानो) का अनुपालन कर 2.5 लाख रुपए निकालने की छूट दी गई है। इसके लिए पैसा निकालना सुनिश्चित करने के लिए शादी का कार्ड एवं एक स्व-हस्ताक्षरित घोषणा पत्र देना होगा। शादी के कार्ड पर मजिस्ट्रेट के हस्ताक्षर एवं मुहर लगने के बाद उसे दिखा कर ही बैंक भुगतान की अनुमति देगा।

नेताओं की ओर से सहकारी बैंकों की जा रही मांग
सूत्रों ने यह भी बताया कि राजनीतिक दलों एवं नेताओं की ओर से सहकारी बैंकों को भी रियायत देने की मांग बड़े जोर-शोर से की जा रही है। चूंकि सहकारी बैंकों पर राजनीतिक दलों एवं राजनेताओं का प्रभाव रहता है और काले धन को सफेद करने के लिए उनके दुरुपयोग की संभावना रहती है, इसलिए सरकार सहकारी बैंकों को कोई रियायत नहीं देगी। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You