Live: आज का गुडलक देगा आपके जीवनसाथी को स्वस्थ तन और बेपनाह धन

You Are HereDharm
Sunday, October 08, 2017-8:22 AM

आज रविवार दी॰ 08.10.17 कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चंद्रोदय व्यापिनी चतुर्थी को करवा चौथ पर्व मनाया जाएगा। इस दिन अखंड सौभाग्य कि प्राप्ति के लिए गौरी, शिव, गणेश, कार्तिकेय सहित चंद्रमा का पूजन किया जाता है। सौभाग्यवती स्त्रियां अटल सुहाग, पति की दीर्घायु, स्वास्थ्य एवं मंगल कामना के लिए यह व्रत करती हैं। वामन पुराण में करवा चौथ के व्रत का वर्णन मिलता है। करवा चौथ मूलत: देवी गौरी के करवा स्वरूप को समर्पित है। दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा चित्रित कर "वर" बनाते हैं। पीली मिट्टी से गौरी व उनकी गोद में गणेश जी बनाकर बिठाए जाते हैं। गौरी का पूजन कर उन्हें 16 श्रृंगार चढ़ाए जाते हैं। रोली से करवा पर स्वस्तिक बनाते हैं। करवा पर 13 बिंदी रखकर 13 चावल के दाने हाथ में लेकर करवा चौथ की कथा कही जाती है। पूजा के बाद मिट्टी के करवे में चावल, उड़द व सुहाग की सामग्री का दान किया जाता। सास के पांव छूकर फल, मेवा व सुहाग की सारी सामग्री उन्हें दी जाती है। रात्रि में चंद्रोदय के उपरांत छलनी की ओट से चंद्र दर्शन कर अर्घ्य देकर जीवनसाथी के दर्शन करने के बाद ही दंपत्ति अन्न-जल ग्रहण करते हैं। इस विधि से पूजन करने पर जीवनसाथी को मिलेगा स्वस्थ तन और बेपनाह धन।


विशेष पूजन विधि: प्रदोष काल में माता गौरी का शिवालय में जाकर संकल्प मंत्र लेकर विधिवत पूजन करें। गौघृत का दीपक जलाएं, चंदन की धूप करें, लाल फूल चढ़ाएं। 16 श्रृंगार चढ़ाएं। 8 पूरियों व हलुए का भोग लगाएं तथा इस विशेष मंत्र का 1 माला जाप करें। पूजन के बाद अठारहवीं व हलुआ किसी सुहागन को दान दें।


संकल्प मंत्र: मम सुखसौभाग्य पुत्रपौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये करक चतुर्थी व्रतमहं करिष्ये।


पूजन मुहूर्त: शाम 19:55 से 20:25 तक।


पूजन मंत्र: ॐ गौर्यै नमः॥

 

आज का शुशाशुभ
आज का अभिजीत मुहूर्त:
दिन 11:45 से दिन 12:31 तक।


आज का गुलिक काल: शाम 15:01 से शाम 16:28 तक। 


आज का यमगंड काल: दिन 12:08 से दिन 13:35 तक।


आज का अमृत काल: प्रातः 08:56 से प्रातः 10:40 तक।


आज का राहु काल: शाम 16:28 से शाम 17:55 तक। 


करवा चौथ का चंद्रोदय मुहूर्त: रात 20:10 से रात 21:50 तक।


यात्रा मुहूर्त: आज दिशाशूल पश्चिम व राहुकाल वास उत्तर में है। अतः पश्चिम व उत्तर दिशा की यात्रा टालें।


आज का निषेध: आज स्वर्ग वासनी सूर्योदय से लेकर शाम 16:58 तक रहेगी जिसमें शुभ काम वर्जित है। 


आज का गुडलक ज्ञान
आज का गुडलक कलर:
पूर्व।


आज का गुडलक दिशा: पश्चिम।


आज का गुडलक मंत्र: ॐ शिवकाम्यै नमः॥


आज का गुडलक टाइम: दिन 13:10 से दिन 14:10 तक।


आज का बर्थडे गुडलक: सुंदरता में वृद्धि हेतु देवी गौरी पर चंदन चढ़ाकर उपयोग में लें।


आज का एनिवर्सरी गुडलक: सुखी दांपत्य हेतु मां गौरी पर 13 लाल बिंदी चढ़ाकर किसी सुहागन ब्राह्मणी को भेंट करें। 


गुडलक महागुरु का महा टोटका: जीवनसाथी के अच्छे स्वास्थ्य के लिए दूध में शहद व सिंदूर मिलाकर चंद्रमा को अर्घ्य दें।


आज के गुडलक में बस इतना ही। कल गुडलक में आपसे फिर मुलाक़ात होगी और हम आपको बताएंगे कैसे भगवान शंकर सोम कार्तिगई दीपम पर्व पर देंगे प्रतियोगिता में निश्चित सफलता। 

आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com

Edited by:Aacharya Kamal Nandlal
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You