Live: आज के गुडलक में जानें कैसे होगी तेज व पराक्रम में वृद्धि

You Are HereTop News
Monday, October 09, 2017-9:35 AM

आज सोमवार दी॰ 09.10.17 को सोम कार्तिगई दीपम पर्व मनाया जाएगा। हर महीने मनाया जाने वाला कार्तिगई दीपम तमिल संस्कृति का सबसे प्राचीन पर्व है। कार्तिगई दीपम पर्व की उत्पत्ति कृतिका नक्षत्र से हुई है। हर माह में जब चंद्रमा कृतिका नक्षत्र में होता है तब कार्तिगई दीपम पर्व मनाया जाता है। इस पर्व को दीपोत्सव के रूप में मनाया जाता है। मूलरूप से यह पर्व शिव के अग्नि स्वरुप को समर्पित है। सोमवार होने के कारण इसे सोम कार्तिगई दीपम कहते हैं तथा कार्तिक माह होने के कारण इसकी महत्वता अत्यधिक बढ़ जाती है। 


पौराणिक मान्यतानुसार परमेश्वर शिव ने विष्णु व ब्रह्मा को अपनी सर्वोच्चता सिद्ध करने हेतु प्रकाश की एक अंतहीन लौ में खुद को परिवर्तित कर लिया था। इस लौ का पार विष्णु व ब्रह्मा हेतु असंभव हो गया। इस पर्व में संध्या के समय तेल के दीपों की पंक्तियों घर व शिवालय में सजाई जाती है मान्यतानुसार कार्तिगई दीपम पर्व के विशेष पूजन व उपाय से व्यक्ति प्रतियोगिता में सफल होता है तथा उसके तेज व पराक्रम में वृद्धि होती है।


विशेष पूजन विधि: शिवलिंग का पंचोपचार पूजन करें। तेल में रातरानी का इत्र मिलाकर दीपक करें, चंदन की धूप करें, सफेद फूल चढ़ाएं, चंदन से त्रिपुंड बनाएं, खीर का भोग लगाएं व सफ़ेद चंदन की माला से यह विशिष्ट मंत्र जपें। पूजन के बाद खीर किसी गरीब बालक को दान दे दें।


पूजन मुहूर्त: दिन 12:15 से दिन 13:15 तक।


पूजन मंत्र: क्लीं कीर्तिसागराय नमः शिवाय॥


आज का शुशाशुभ
आज का अभिजीत मुहूर्त:
दिन 11:45 से दिन 12:31 तक।


आज का गुलिक काल: दिन 13:34 से शाम 15:01 तक। 


आज का यमगंड काल: प्रातः 10:41 से दिन 12:08 तक।


आज का अमृत काल: दिन 11:50 से दिन 13:18 तक।


आज का राहु काल: प्रत 07:48 से प्रातः 09:15 तक। 

 

यात्रा मुहूर्त: आज दिशाशूल पूर्व व राहुकाल वास वायव्य में है। अतः पूर्व व वायव्य दिशा की यात्रा टालें।


आज का गुडलक ज्ञान
आज का गुडलक कलर:
श्वेत।


आज का गुडलक दिशा: दक्षिण-पूर्व।


आज का गुडलक मंत्र: ॐ भुजंगगेश्वराय नमः॥


आज का गुडलक टाइम: शाम 18:30 से 19:30 तक।


आज का बर्थडे गुडलक: शिवलिंग पर चढ़ा नारियल का तेल नित्य दर्द वाले स्थान पर लगाएं।


आज का एनिवर्सरी गुडलक: दांपत्य कटुता दूर करने हेतु तेल में छाया देखकर शिवालय में गौरी की मूर्ति पर दीपक करें।


गुडलक महागुरु का महा टोटका: धन-दौलत में बरतक हेतु शिवलिंग पर चढ़ी शतावरी सफेद कपड़े में बांधकर तिजोरी में रखें।


आज के गुडलक में बस इतना ही। कल गुडलक में आपसे फिर मुलाक़ात होगी और हम आपको बताएंगे कैसे भगवान वासुपूज्‍य रोहिणी व्रत पर आपके जीवनसाथी को देंगे लम्बी आयु व उत्तम स्वास्थ्य का वरदान।

 


आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com

Edited by:Aacharya Kamal Nandlal
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You