सेक्स कर्मियों की मांग, सेक्स को रखा जाए अपराध श्रेणी से बाहर

  • सेक्स कर्मियों की मांग, सेक्स को रखा जाए अपराध श्रेणी से बाहर
You Are HereNational
Thursday, August 22, 2013-12:15 AM

नई दिल्ली: सामाजिक पहचान के अलावा यौनकर्म को अपराध की श्रेणी से बाहर रखने की मांग को लेकर पूरे भारत की यौनकर्मियों ने एक राष्ट्रीय अभियान छेडऩे के लिए हाथ मिलाया है। अपने खिलाफ हिंसा और शोषण खत्म करने के लिए वे कानूनी अधिकार की भी मांग कर रही हैं।

ऑल इंडियन नेटवर्क ऑफ सेक्स वर्कर्स (एआईएनएसडब्लू) से संबद्ध 13 राज्यों की यौनकर्मियों के प्रतिनिधियों का ‘यौनकर्मियों के अधिकार और इज्जत की रक्षा’ पर दो दिवसीय परामर्श सम्मेलन आज आरंभ हुआ। एआईएनएसडब्लू के सलाहकार समरजीत जाना ने कहा, ‘‘हमें पता है कि संविधान के अनुच्छेद 14-21 के तहत मिला अधिकार देश के सभी यौनकर्मियों के लिए सच हो, इसके लिए समुदाय को काफी काम करना होगा।’’ 

जाना ने कहा कि कार्यक्रम के समापन पर वे राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को एक ज्ञापन भेंजेंगे। कार्यक्रम के भाग लेने वाले सेक्स कर्मियों ने राज्यसभा सदस्य बरूण मुखर्जी, लोकसभा सांसद बासुदेव आचार्य और राष्ट्रपति मुखर्जी के पुत्र और सांसद अभिजीत मुखर्जी जैसे महत्वपूर्ण लोगों को राखी बांधी। अभिजीत मुखर्जी ने कहा, ‘‘एक नए सांसद के रूप में मुझे पता है कि भारत में कानून लागू कराना कठिन है और कानून की व्याख्या एक अन्य समस्या है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसमें कोई संदेह नहीं कि जो कोई भी सेवा देता है वह कामगार है और हर कामगार को अपने अधिकार मांगने का हक है। लेकिन, दुर्भाग्य है कि हमारे समाज में सेक्स एक वर्जना है। यौनकर्मियों के लिए कानून बनाना होगा और एक सांसद के तौर पर मुझसे जो कुछ भी होगा मैं आपकी सहायता करूंगा।’’

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You