किक्रेट के भगवान के संन्यास पर किसने क्या कहा : पढ़े

  • किक्रेट के भगवान के संन्यास पर किसने क्या कहा : पढ़े
You Are HereNational
Friday, October 11, 2013-3:56 AM

नई दिल्ली : मास्टर ब्लास्टर व किक्रेट के भगवान सचिन तेंदुलकर ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया है। सचिन ने ऐलान किया है कि उनका 200वां टेस्ट आखिरी टेस्ट होगा। उन्होंने बीसीसीआई को बताया है कि 200वां टेस्ट उनके जीवन का आखिरी टेस्ट होगा। सचिन टी 20 और वनडे से पहले ही संन्यास ले चुके हैं। संन्यास के ऐलान के साथ ही सचिन ने एक बयान जारी किया है।

तेंदुलकर कहा कि वेस्टइंडीज के खिलाफ अगले महीने 200वां टेस्ट खेलने के बाद वह टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह देंगे जिससे 24 साल के उनके अंतरराष्ट्रीय करियर का भी अंत हो जाएगा।

सचिन तेंदूलकर के संन्यास पर किक्रेट प्रेमियों ने तेंदुलकर से जुड़े यादगार लम्हें किए ताजा :

सोरव गांगुली : गांगुली ने कहा कि तेंदुलकर ने ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और पाकिस्तान के खिलाफ विदेशों में जिस तरह से बल्लेबाजी की उससे भारत को क्रिकेट की दुनिया में सम्मान मिला। उन्होंने कहा कि उसने ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और पाकिस्तान के खिलाफ विदेशों में जिस तरह बल्लेबाजी की उससे भारत को वर्ष 2000 के बाद सम्मान मिला। इसमें उसकी अहम भूमिका रही। मेरे लिए यह सबसे बड़ा योगदान है।

इरफान पठान : सचिन तेंदुलकर का संन्यास लेना भारतीय क्रिकेट के लिए बड़ी बात है। हम सब उन्हें मैदान में बहत मिस करेंगे।

बीसीसीआई उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला: सचिन मुझसे अक्सर कहा करते थे कि मैं एक दिन उठूंगा और फैसला ले लूंगा। आज उन्होंने मुझे फोन किया और कहा कि मुझे लग रहा है कि अब मुझे क्रिकेट छोड़ देना चाहिए।

शाहरुख खान: ओह नो! अचानक नशे का मतलब समझ में आया। मेरे लिए ये सचिन हैं। मैं टर्की जा रहा हूं, बिना सचिन के क्रिकेट देखना होगा।

ललित मोदी: सचिन ने जो देश के लिए किया, मेरी नजर में क्रिकेट या किसी भी खेल में वैसा किसी ने नहीं किया। वे हमारे दिल में हमेशा बड़े प्यार से रहेंगे। दूसरी ओर उनकी नई पारी के लिए खुशी भी है। वे हमेशा एक आइकॉन रहेंगे।

बीजेपी प्रवक्ता प्रकाश जावेड़कर: सचिन क्रिकेट के बेताज बादशाह हैं, पूरा देश उनके लिए कृतज्ञ रहेगा। सचिन सचमुच में भारत रत्न हैं। सरकार दे या ना दे वो दूसरी कहानी है। लेकिन लोगों ने माना ही है। वे अब राज्यसभा में आएंगे तो हमें फायदा होगा। सदियों में ऐसा खिलाड़ी होता है।

अभिनव बिंद्रा: सचमुच नहीं जनता कि सचिन के बारे मे क्या कहूं। सबकुछ बहुत जल्दी हो गय। उनको नई पारी के लिए ढ़ेर सारी शुभकमनाएं।

हर्षा भोगले: आप जानते थे कि ऐसा होगा। यह अरिहार्य था, तो फिर सचिन क्यों संवेदनशून्यता दिखाते।

दिलीप वेंगसरकर: सचिन हमेशा शानदार रहे। वे जहां भी खेले, पूरे जोश से जमकर खेले

सचिन ने क्रिकेट प्रेमियों के लिए लिखा एक खत :

‘पूरी जिंदगी मेरा सपना रहा है क्रिकेट खेलना। मैं पिछले 24 साल से हर रोज इस सपने को जीता रहा हूं। क्रिकेट के बिना एक दिन भी जिंदगी के बारे में सोचना मुश्किल होगा, क्योंकि यही तो मैं तब से कर रहा हूं जब मैं 11 साल का था। पूरी दुनिया में क्रिकेट खेलते हुए अपने देश का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए गौरव की बात रहा है। मैं देश की धरती पर 200वां मैच खेलने जा रहा हूं, इसी दिन मेरा संन्यास होगा। इतने सालों में बीसीसीआई से मुझे जो मिला है, उसका मैं बहुत आभारी हूं। उसने मुझे वो फैसला लेने की इजाजत दी है जो मेरा दिल कह रहा है। इतना धैर्य रखने के लिए मैं अपने परिवार का भी शुक्रिया करता हूं। मैं अपने प्रशंसकों और शुभचिंतकों का भी शुक्रिया करता हूं जिन्होंने मुझे अच्छे प्रदर्शन के लिए अपनी प्रार्थनाओं के जरिए हमेशा ताकत दी।’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You