ग्रहण के चलते 19 अक्तूबर को खोयी-खोयी दिखेगी चांदनी

  • ग्रहण के चलते 19 अक्तूबर को खोयी-खोयी दिखेगी चांदनी
You Are HereNational
Wednesday, October 16, 2013-2:57 PM

इंदौर: सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा की ‘त्रिमूर्ति’ की विशेष स्थिति 19 अक्तूबर को उप‘छाया चंद्रग्रहण का अद्भुत नजारा दिखाएगी। इस खगोलीय घटना के वक्त शरद पूर्णिमा का ढलता चंद्रमा पूरा तो नजर आएगा लेकिन उसकी तेज चमक कुछ देर के लिए खो जाएगी और इस दौरान पृथ्वी का उपग्रह धुंधला दिखाई देगा। उज्जैन की प्रतिष्ठित जीवाजी वेधशाला के अधीक्षक डॉ. राजेंद्रप्रकाश गुप्त ने आज बताया कि भारतीय मानक समय के मुताबिक उप‘छाया चंद्रग्रहण की शुरुआत 19 अक्तूबर को तड़के 03:18 बजे होगी और यह इस तारीख की सुबह 07:22 बजे समाप्त हो जाएगा।

 

इस तरह सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा की दिलचस्प भूमिका वाला खगोलीय घटनाक्रम करीब चार घंटे तक चलेगा। दो सदी पुरानी वेधशाला के अधीक्षक ने अपनी गणना के हवाले से बताया कि उप‘छाया चंद्रग्रहण 19 अक्तूबर की सुबह 05:20 बजे अपनी चरम स्थिति पर पहुंचेगा, जब चंद्रमा, पृथ्वी की परछाई वाले हिस्से से होकर गुजरेगा। गुप्ता ने कहा कि पृथ्वी की परिक्रमा कर रहे चंद्रमा के प्रकाश की तीव्रता इस वक्त कम हो जाएगी और इसमें हल्की-सी लालिमा भी दिखाई देगी।

 

इस नजारे को भारत में निहारा जा सकेगा। हालांकि, जब यह खगोलीय घटना खत्म होगी, देश में पौ फट चुकी होगी। उन्होंने बताया कि उप‘छाया चंद्रग्रहण तब होता है, जब चंद्रमा पेनुम्ब्रा :ग्रहण के वक्त धरती की परछाई का हल्का भाग: से होकर गुजरता है। इस समय चंद्रमा पर पडऩे वाली सूर्य की रोशनी आंशिक रूप से कटी प्रतीत होती है और ग्रहण को चंद्रमा पर पडऩे वाली धुंधली परछाई के रूप में देखा जा सकता है। वेधशाला अधीक्षक ने बताया कि तीन नवंबर को इस साल का पहला पूर्ण सूर्यग्रहण होगा। यह वर्ष का आखिरी ग्रहण भी होगा, जो भारत में नहीं दिखेगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You