'सोनिया की बीमारी बताकर भावानात्मक रूप से आकर्षित कर रहे राहुल'

  • 'सोनिया की बीमारी बताकर भावानात्मक रूप से आकर्षित कर रहे राहुल'
You Are HereNational
Thursday, October 17, 2013-6:13 PM

नई दिल्ली: लोकसभा में खाद्य सुरक्षा विधेयक पारित कराए जाते समय अपनी मां सोनिया गांधी के बीमार पड़ जाने का राहुल गांधी द्वारा उल्लेख किए जाने की भाजपा ने आज आलोचना की। उसने कहा कि कांग्रेस के किसी सदस्य द्वारा पार्टी अध्यक्ष की बीमारी का जिक्र किए जाने पर उसे दल से निकाल दिया जाता है और दूसरी ओर उसी पार्टी के उपाध्यक्ष चुनावी सभाओं में खुद ऐसा करके मतदाताओं का ध्यान खींचने का प्रयास कर रहे हैं।

भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने यहां कहा, ‘‘सोनिया गांधी की बीमारी का उल्लेख करते हुए कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने प्रियंका गांधी को उत्तरप्रदेश के फूलपुर से चुनाव लड़ाने का सुझाव दिया तो उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया, लेकिन उनके बेटे राहुल गांधी खुद चुनावी भाषणों में सोनिया की बीमारी की बात करके जनता को भावानात्मक रूप से आकर्षित करने का प्रयास कर रहे हैं। यह कहां तक न्याय की बात है? ’’

उल्लेखनीय है कि राहुल ने आज मध्यप्रदेश के लालपुर में आयोजित एक सभा में कहा, ‘‘जिस समय लोकसभा में खाद्य सुरक्षा विधेयक पारित हो रहा था। मुझे पता था कि मां की तबियत ठीक नहीं थी और मैं बार-बार उनकी ओर देख रहा था। मैंने उन्हें अस्पताल चलने को कहा, लेकिन उनका कहना था कि इस विधेयक के लिए उन्होंने लंबी लड़ाई लड़ी है और वह उस पर वोट देना चाहती हैं।’’ उन्होंने कहा कि अस्वस्थ होने के कारण उनकी मां को सदन में मतदान होने से पहले ही अस्पताल जाना पड़ा और वोट नहीं डाल सकने के कारण उनकी आंखू में आंसू थे।

भाजपा प्रवक्ता ने खाद्य सुरक्षा विधेयक का श्रेय सोनिया गांधी को दिए जाने के लिए राहुल की आलोचना करते हुए कहा कि वह संसद में कम ही आते हैं, इसलिए उन्हें कई बातों का ज्ञान नहीं होता। उन्होंने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष को लोकसभा में चर्चा और पारित करने के लिए इस विधेयक को रखे जाते समय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश की उस टिप्पणी को देख लेना चाहिए जिसमें उन्होंने कहा था कि विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज के सहयोग के बिना इस विधेयक को पारित कराने की ओर बढऩा संभव नहीं था।

मध्यप्रदेश में आदिवासियों की खराब हालत के लिए भाजपा को दोषी बताए जाने के राहुल के अरोप का जवाब देते हुए शाहनवाज ने कहा कि इसके लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष को अपनी पार्टी का इतिहास पढऩा चाहिए जिसका देश में सबसे अधिक समय तक शासन रहा है। उन्होंने कहा कि आदिवासियों के पिछड़े रहने के लिए कांग्रेस ही जिम्मेदार है। उन्होंने दावा किया कि भाजपा मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के कुछ साल के शासन में ही आदिवासियों को मुख्यधारा में लाने में सफल रही है। राहुल गांधी के इस दावे को भी उन्होंने गलत बताया कि राजग शासन की बनिस्बत संप्रग शासन में सड़कों का निर्माण अधिक हुआ है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा, लगता है राहुल के सलाहकारों ने उन्हें गलत आंकड़े उपलब्ध कराए हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You