महाखजाना: खुदाई शुरू, चेले का दावा, खजाना न मिले तो राष्ट्रद्रोह में भेज दें जेल

  • महाखजाना: खुदाई शुरू, चेले का दावा, खजाना न मिले तो राष्ट्रद्रोह में भेज दें जेल
You Are HereNational
Friday, October 18, 2013-3:36 PM

उन्नाव: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के उन्नाव जिले के डौंडिया खेरा गांव में एक हजार टन सोना होने के दावे के बीच भारतीय पुरातत्व विभाग (एएसआई) ने आज खुदाई शुरू कर दी है। 19वीं शताब्दी के राजा रावराम बक्श सिंह के किले में एक हजार टन सोना होने का दावा साधु शोभन सरकार ने किया है। खुदाई से पहले साधु शोभन सरकार ने पूजा अर्चना की और उसके बाद 11 बजे एएसआई की टीम ने खुदाई का काम शुरू किया। इलाके में धारा 144 भी लगा दी गई है। पुरातत्व विभाग की 12 सदस्यों की टीम खुदाई कर रही है। उन्नाव के डीएम विजय किरण आनंद का दावा है कि डौडिया में खुदाई पूरी होने में एक महीने का भी समय लग सकता है।

शोभन सरकार ने खजाना मिलने की स्थिति में अधिकांश हिस्सा राज्य के विकास में खर्च करने की मांग उठाई है। शोभन सरकार ने सेना की मौजूदगी में खुदाई कराने का आग्रह किया है। दूसरी ओर खुदाई स्थल पर बढ़ती भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने पीएसी तैनात कर दी है। वहां मीडिया का भी भारी जमावड़ा है।

साधु शोभन सरकार ने केन्द्रीय कृषि और  खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री चरण दास महंत से खजाने के संबंध में जिक्र किया था। इसके बाद भारतीय भूगर्भ विभाग ने स्थल की जांच की और एएसआई से खुदाई करवाने की संस्तुति की थी।

खजाना न हो तो राष्ट्रद्रोह में भेज दें जेल
प्रशासन की हीलाहवाली के बीच संत शोभन सरकार के शिष्य ओम जी महाराज ने कहा कि वह खुदाई व सुरक्षा में आने वाले खर्च के लिए अग्रिम दस लाख रुपये देने को तैयार हैं। खजाना न निकले तो दस लाख जब्त कर उनको राष्ट्रद्रोह में जेल भेज दिया जाए। दावा किया कि अगले सप्ताह आदमपुर में खुदाई के बाद संतों का खजाना धनतेरस से पहले रिजर्व बैंक में पहुंचा दिया जाएगा।

उन्नाव के बाद अब फतेहपुर में ढाई हजार टन सोने का खजाना!
स्वामी शोभन सरकार के उन्नाव के में एक हजार टन सोने के सपने के बाद उनके शिष्य स्वामी ओम जी ने फतेहपुर जिले के आदमपुर क्षेत्र के एक किले में ढाई हजार टन सोना होने का दावा किया है।

सोने की खुदाई संबंधी याचिका पर सुनवाई को तैयार सुर्पींम कोर्ट
नई दिल्ली: उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के डौंडियाखेडा में सोने की खुदाई उसकी निगरानी में कराए जाने संबंधी जनहित याचिका की सुनवाई को तैयार हो गया है और इसकी सुनवाई संभवत. सोमवार को होगी। न्यायालय ने इस मामले में अधिवक्ता मनोहर लाल शर्मा की ओर से दायर जनहित याचिका की सुनवाई पर हामी भर दी। हालांकि न्यायालय ने याचिका की त्रुटियां हटाने का याचिकाकर्ता को निर्देश दिया।

शर्मा ने मुख्य न्यायाधीश पी सदाशिवम की खंडपीठ के समक्ष अपनी याचिका का विशेष उल्लेख किया तथा इसकी त्वरित सुनवाई का उससे अनुरोध किया, लेकिन खंडपीठ ने याचिका की त्रुटियों को दुरूस्त करने को कहा। खंडपीठ ने त्रुटिविहीन याचिका की सुनवाई सोमवार को करने के संकेत दिए।

इससे पहले याचिकाकर्ता ने दलील दी कि किले के समीप सोना दबे होने के दावे के बाद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण एएसआई द्वारा की जाने वाली खुदाई शीर्ष अदालत की निगरानी में कराई जानी चाहिए,ताकि बहुमूल्य धातु गायब न हो। उन्होंने खुदाई स्थल पर सेना की तैनाती के निर्देश देने का भी आग्रह न्यायालय से किया। हालांकि न्यायालय ने कहा कि राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन स्थिति पर निगरानी के लिए वहां मौजूद है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You