सर्विकल कैंसर को रोकने में मददगार हल्दी

  • सर्विकल कैंसर को रोकने में मददगार हल्दी
You Are HereNational
Friday, October 18, 2013-2:16 PM

कोलकाता: हल्दी के औषधीय गुणों के बारे में यूं तो सभी जानते हैं लेकिन अब पता लगा है कि यह महिलाओं में सर्विकल कैंसर का कारण ह्यूमन पापिलोमा वायरस संक्रमण का इलाज करने और उसे रोकने में भी कारगर है। चित्तरंजन नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट (सीएनसीआई) के वैज्ञानिकों ने यहां इस संबंध में दावा किया। सीएनसीआई ने इस संबंध में पांच वर्ष तक शोध किया। इस शोध में उन 400 महिलाओं को शामिल किया गया जो सर्विकल कैंसर से पीड़ित थीं या जिनके नमूने ह्यूमन पापिलोमा वायरस (एचपीवी) के लिए सकारात्मक पाए गए। यह वायरस सर्विकल कैंसर का मुख्य कारण है।

अनुसंधान करने वाले वैज्ञानिक पार्थ बसु ने पीटीआई से कहा, ‘‘ हमने हल्दी के एक तत्व करक्यूमिन को निकाला जो विषाणु रोधी है और जिसमें एचपीवी से लडऩे के गुण हैं।’’संस्थान के निदेशक जयदीप बिस्वास ने कहा कि जिन महिलाओं के नमूने एचपीवी के लिए सकारात्मक पाए गए उन्होंने करक्यूमिन को एक क्रीम की तरह लगाया या इसके कैप्सूल खाए।

उन्होंने कहा, ‘‘ कुल 280 महिलाओं को करक्यूमिन दिया गया जबकि शेष महिलाओं को किसी भी रूप में करक्यूमिन नहीं दिया गया। अध्ययन में यह पाया गया कि करक्यूमिन लेने वाली महिलाओं का एचपीवी संक्रमण दूर हो गया और संक्रमण फैलने से भी रक गया।’’ बसु ने कहा कि जिन महिलाओं ने करक्यूमिन नहीं लगाया उनमें एचपीवी संक्रमण फैलने के संकेत दिखाई दिए।

उन्होंने कहा कि हल्दी खाने से कैंसर के उपचार में मदद नहीं मिलेगी क्योंकि यकृत करक्यूमिन का चयापचय करता है और यह रक्त प्रवाह में नहीं पाया जाता। बसु ने बताया कि यही कारण है करक्यूमिन को खाने के बजाए क्रीम या कैप्सूल के रूप में लगाया गया। उन्होंने बताया कि वाणिज्यिक दवा के रूप में इस्तेमाल करने की मंजूरी के लिए इसे दवा नियंत्रक को भेजा गया है। सीएनसीआई ने 2008-2009 में एक अध्ययन किया था जिसके अनुसार कोलकाता में स्तन एवं कर्विकल कैंसर महिलाओं को प्रभावित कर रहे हैं।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You