‘संतों के कार्यक्रमों पर रोक लगाना राज्य सरकार को पड़ेगा मंहगा’

  • ‘संतों के कार्यक्रमों पर रोक लगाना राज्य सरकार को पड़ेगा मंहगा’
You Are HereUttar Pradesh
Friday, October 18, 2013-3:02 PM

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उत्तर प्रदेश इकाई ने अखिलेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि संकल्प सभा पर रोक लगाकर यह संतों के खिलाफ दमनकारी रवैया अपना रही है। भाजपा ने यह भी कहा है कि सरकार का यह रवैया आने वाले समय में उस पर भारी पड़ेगा।

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता चंद्रमोहन सिंह ने आज यह बातें कहीं। विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) की संकल्प सभा को लेकर भाजपा ने राज्य सरकार को आगाह करते हुए कहा कि संतों के कार्यक्रमों पर रोक लगाना उसे खासा महंगा पड़ेगा। सिंह ने कहा, ‘‘सरकार पूरी तरह से एक तरफा कार्रवाई कर रही है। संतों की संकल्प सभा के आयोजन के लिए पर्याप्त व्यवस्था देने की जगह उनके हर कार्यक्रमों पर वह तानाशाही रवैया अपना कर रोक लगा रही है।’’

उन्होंने कहा कि सरकार का यह रवैया आने वाले समय में उसे ही भारी पड़ेगा। संत समाज के साथ सरकार एक तरफा कार्रवाई बंद करे और उन्हें संकल्प सभा आयोजित करने की इजाजत दी जाए। प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि सरकार एक वर्ग विशेष के खिलाफ लगातार तानाशाही रवैया अख्तियार किए हुए है। संत समाज के कार्यक्रमों पर रोक लगाने की कार्रवाई पूरे तरीके से निंदनीय है।

उल्लेखनीय है कि विहिप ने 18 अक्टूबर को अयोध्या सहित पूरे देश में संकल्प सभा के आयोजन का ऐलान किया है। विहिप के रवैये को देखते हुए पूरी अयोध्या को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। इस सभा पर सरकार ने हालांकि रोक लगा दी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You