दोषी सांसदों की सदस्यता कोर्ट के फैसले के फौरन बाद खत्म होनी चाहिए: वाहनवती

  • दोषी सांसदों की सदस्यता कोर्ट के फैसले के फौरन बाद खत्म होनी चाहिए: वाहनवती
You Are HereNational
Saturday, October 19, 2013-2:58 PM

नई दिल्ली: सरकार के अटॉर्नी जनरल जी ई वाहनवती ने यह स्पष्ट किया कि अगर किसी दोषी सांसद को अदालत दोषी ठहराती है तो वह उसी दिन ही अयोग्य हो जाता है जिस दिन उसे दोषी ठहराया जाता है। इसी के साथ ही सीट रिक्त होने की घोषणा संबंधी अधिसूचना तत्काल जारी कर दी जानी चाहिए। चारा घोटाला केस में आरजेडी सांसद लालू प्रसाद यादव, जेडीयू सांसद जगदीश शर्मा और मेडिकल भर्ती घोटाला केस में कांग्रेस सांसद रशीद मसूद की संसद सदस्यता जल्द खत्म करने की सिफारिश अटॉर्नी जनरल वाहनवती ने की है।

 अधिसूचना जारी करने में देरी का मतलब सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन नहीं करना हो सकता है. इससे पहले अपनी राय में वाहनवती ने अधिसूचना जारी करने के लिए अपनाई जाने वाली प्रक्रिया पर कोई राय जाहिर नहीं की थी. लोकसभा सचिवालय ने प्रक्रिया पर स्पष्टीकरण के लिए फिर उनसे संपर्क किया था।

उधर झारखंड उच्च न्यायालय ने चारा घोटाले से संबंधित चाईबासा कांड में सजा पाने वाले राजद सुप्रीमो लालू यादव, आर के राणा और अन्य अभियुक्तों के मामले में विशेष सीबीआई अदालत के रिकार्ड आज तलब किये। न्यायमूर्ति आर आर प्रसाद की एकल पीठ ने 950 करोड़ रुपये के चारा घोटाले के चाईबासा कोषागार से 37 करोड़, 70 लाख रुपये फर्जी ढंग से निकालने से जुड़े मामले में अपील दायर करने वाले बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव, पूर्व विधायक आर के राणा एवं अन्य सभी अभियुक्तों की याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान विशेष अदालत का रिकार्ड पेश करने का आदेश दिया।

लालू प्रसाद यादव, आर के राणा समेत 37 अभियुक्त इस मामले में बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं। कुछ अभियुक्त बीमारी के कारण न्यायिक हिरासत में ही अस्पताल में हैं।  न्यायालय ने निचली अदालत के रिकार्ड आ जाने के बाद सुनवाई की अगली तिथि निर्धारित करने का निर्देश महापंजीयक को दिया।


 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You