Subscribe Now!

‘मुलायम को छुड़ाना चाहिए आजम से पीछा’

  • ‘मुलायम को छुड़ाना चाहिए आजम से पीछा’
You Are HereUttar Pradesh
Sunday, October 20, 2013-3:11 PM

लखनऊ: विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने दावा किया है कि अयोध्या विवाद के हल के नजदीक पहुंचने के कारण ही कांग्रेस ने पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर की सरकार गिरा दी थी। विहिप महासचिव चम्पत राय ने आज यहां (यूनीवार्ता) से कहा कि चन्द्रशेखर अपने प्रधानमंत्रित्वकाल में अयोध्या विवाद के हल के काफी नजदीक पहुंच गये थे लेकिन कांग्रेस के तत्कालीन नेता राजीव गांधी ने अयोध्या विवाद का हल नजदीक देखते ही उनकी सरकार गिरा दी। राय ने कहा कि चन्द्रशेखर ने मामले के हल का गंभीरता से प्रयास किया था और उसके परिणाम आने की प्रबल सम्भावना थी। उन्होंने कहा कि चन्द्रशेखर ने हिन्दू और मुस्लिम पक्ष को एक मेज पर ला दिया था।

बातचीत में पर्यवेक्षक के तौर पर समाजवादी पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव, पूर्व उपराष्ट्रपति भैरौं सिंह शेखावत, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार और  चन्द्रशेखर के मंत्रिमंडल में रहे सुबोध  राय ने कहा कि कई बैठकें हुयी और बैठकों की कार्यवाही सरकार ने तैयार कराई थी जिसकी प्रतिलिपि न्यायालय में भी जमा है। उन्होंने दावा किया कि इन बैठकों के परिणाम के नजदीक पहुंचने की संभावना बन ही रही थी कि कांग्रेस ने चन्द्रशेखर की सरकार गिरा दी। उन्होंने मुलायम सिंह यादव की जमकर तारीफ की और कहा कि वह मुलायम के चार गुणों से काफी प्रभावित हैं और ये गुण उनकी विचारधारा से मिलते जुलते भी हैं।

उन्होंने कहा कि सपा अध्यक्ष गोवंश के रक्षक हैं, सोनिया गांधी को प्रधानमंत्री बनने में रुकावट पैदा की। धुन के पक्के हैं और सर्वाधिक महत्वपूर्ण देश के प्रति उनका लगाव है। उन्होंने कहा कि मुलायम यदि आजम खां से अपना पीछा छुड़ा ले तो उनके बराबर का देश में शायद ही कोई नेता हो। उन्होंने कहा कि गत 17 अगस्त को वह विहिप नेता सिंघल के साथ सपा अध्यक्ष से मिले थे। यादव ने भारतीय रीति रिवाज से जिस तरह विहिप नेताओं का स्वागत किया उससे वह काफी खुश हैं लेकिन यादव ने बातचीत के दौरान 84 कोसी परिक्रमा पर रोक लगाने का कोई संकेत नही दिया था।
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You