अपना सियासी हक मांग रहे हैं पूर्वांचली

  • अपना सियासी हक मांग रहे हैं पूर्वांचली
You Are HereNational
Monday, October 21, 2013-11:10 AM


नई दिल्ली,(सतेन्द्र त्रिपाठी): पूर्वांचल के नाम पर वोट तो सबने बटोर लिए, लेकिन उन्हें प्रतिनिधित्व देने के नाम पर ठेंगा दिखा दिया गया। भाजपा पूर्वांचल को सम्मान देने की बात तो बहुत करती है, लेकिन असलियत कुछ और है। पिछली बार के विधानसभा चुनाव को देखें तो मात्र दो सीटें ही पूर्वांचल के खाते में आई थी। वह भी तब जबकि 30 सीटों पर पूर्वांचल वोटर हार-जीत को प्रभावित करने की ताकत रखता है, इनमें से 15 पर तो वह निर्णायक भूमिका में है। इस बार भी पूर्वांचल को वोट लेने के लिए गायक मनोज तिवारी को झपटने के लिए कांग्रेस व भाजपा में हुई रस्साकशी में भाजपा जीत गई, लेकिन देखना यह होगा कि दो दर्जन से अधिक सीटों पर दावेदारी करने पूर्वांचल नेताओं को कितना सम्मान मिल पाएगा।

दिल्ली विधानसभा में बुराड़ी, लक्ष्मी नगर, पटपडग़ंज, शाहदरा, घौंडा, मुस्तफाबाद, सीमापुरी, संगम विहार, द्वारका, मटियाला, विकासपुरी, किराड़ी, बवाना, जनकपुरी, पटेल नगर, गोकलपुरी आदि सीटों पर पूर्वांचल के वोटरों की संख्या सबसे अधिक है। दिल्ली के कुल एक करोड़ बारह लाख वोटरों में से तीस लाख से अधिक वोटर पूर्वांचल से जुड़े हुए है। इतनी बड़ी संख्या होने के बावजूद विधानसभा में सही प्रतिनिधित्व नहीं मिल पाता। पिछली बार केवल किराड़ी से अनिल झा व संगम विहार सीट ही एच.सी.एल.गुप्ता को ही मौका मिला। दोनों ने जीत भी दर्ज की। पूर्वांचल के वोटरों को पटाने के लिए कांग्रेस की दिल्ली सरकार व निगम में काबिज भाजपा ने छठ पूजा को लेकर भी व्यवस्थाएं की। दोनों पार्टियों ने यह दिखाने की कोशिश की कि केवल वही पूर्वांचल के सच्चे हितैषी हैं।

इस बार भाजपा का सीटों का गणित देखें तो पूर्वांचल के नाम पर द्वारका सीट से भाजपा के टिकट दावेदारों में डॉ.संजीव कुमार तिवारी, बवाना से विजय भगत, संगम विहार से अभय सिन्हा, विकासपुरी से पूनम आजाद, पटपटगंज से अमन सिन्हा, लक्ष्मी नगर से अभय वर्मा व पार्षद सुशील उपाध्याय, घौंडा से लाल बिहारी तिवारी, आरकेपुरम से नई दिल्ली जिला भाजपा की मंत्री संयुक्ता प्रसाद, मुस्तफाबाद से देवेन्द्र सिंह व बुराड़ी से गोपाल झा दावेदार है। किराड़ी से विधायक अनिल झा व संगम विहार से एचसीएल गुप्ता दोबारा से किस्मत आजमाएंगे। पूर्वांचल के भाजपा नेताओं का कहना है कि पार्टी को कम से 70 में 10 सीटें तो देनी चाहिए। पार्टी के प्रदेश प्रभारी नितिन गडकरी ने आश्वासन भी दिया है कि इस बार पूर्वांचल के नेताओं को उचित सम्मान मिलेगा।

Edited by:Jeta

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You