विजयराजे राजमाता से लोकमाता बनीं: तोमर

  • विजयराजे राजमाता से लोकमाता बनीं: तोमर
You Are HereNational
Tuesday, October 22, 2013-2:26 PM

भोपाल: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की मध्य प्रदेश इकाई के अध्यक्ष नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि विजयराजे सिंधिया (राजमाता सिंधिया) सिद्धांतों के प्रति समर्पित सांस्कृतिक राष्ट्रवाद से ओतप्रोत विदुषी जननायक थीं। उन्होंने महलों के वैभव को छोड़कर जनता के न्याय के लिए संघर्ष का मार्ग स्वीकार किया और सड़कों पर उतरकर राजमाता से लोकमाता बन गईं।

प्रदेश कार्यालय में विजयराजे सिंधिया की 95वीं जयंती को मंगलवार को मातृशक्ति दिवस के रूप मनाया गया। इस मौके पर तोमर ने कहा कि राजमाता ने जीवन पर्यन्त आम आदमी की तरह जीवन जिया, सेवा की उनमें ललक थी। सादगी और सरलता उनका स्वभाव था।

उन्होंने कहा कि लंबे समय तक राजमाता महिला मोर्चा के माध्यम से महिलाओं से जुड़ी रहीं और उनके बीच में पहुंचकर महिलाओं को सदैव प्रेरित करती रहीं। राजमाता हमेशा सेवा के लिए समर्पित रहीं। उन्हें पद और सत्ता ने कभी आकर्षित नहीं किया। उन्होंने सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के लिए खुद को पूरी तरह समर्पित कर दिया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You