Subscribe Now!

राबर्ट वाड्रा का फैसला सबसे बड़ा गुनाह: खेमका

  • राबर्ट वाड्रा का फैसला सबसे बड़ा गुनाह: खेमका
You Are HereNational
Wednesday, October 23, 2013-10:45 AM

चंड़ीगढ़: मेरा सबसे बड़ा गुनाह यह है कि मैंने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा-डी.एल.एफ. डील को खारिज किया और अब मैं इसी बात की सजा भुगत भी रहा हूं। इस पूरे मामले में मेरे साथ जो कुछ बीत रहा है उसने मेरी स्थिति पिच पर खड़े उस बैट्समैन सरीखी बना गी है, जिसे उस मैच ममें खेलने को कहा गया है जहां एंपायर पूरी तरह से एक पक्षीय व किसी भी अपील पर अपनी उंगली ऊपर उठा देगा। गहराई लिए शब्दों वाला यह पत्र व्हिसल ब्लोअर आई.ए.एस.डा. अशोक खेमका ने हरियाणा ते मुख्य सचीव पी.के चौधरी को लिखा है।

अपने ऊपर एक के बाद विजिलैंस जांचों व चार्जशीट थमाए जाने के सरकारी फैसलों से खफा खेमका ने इशारों ही इशारों में राज्य के मौजूदा प्रशासनिक सिस्टम के कामकाज के तौर तरीकों पर न केवल चोट की है, बल्कि कई सवाल भी खड़े कर दिए हैं। उनका ताजा पत्र रा’य की ब्यूरोक्रेसी से लेकर पूरे मीडिया में जबरदस्त बहस का विषय बन गया है।

खेमका का राज्य सरकार के साथ पिछले साल से जबरदस्त टकराव चल रहा है। इसकी शुरूआत पिछले साल 15 अक्तूबर को उस फैसले से काफी तीखी हो गई थी जब उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा व डी.एल.एफ. के बीच गुडग़ांव में जमीन सौदे के इंतकाल को रद्द कर दिया था। मामले पर मचे बवाल के बाद सरकार ने तीन अफसरों की कमेटी बनाई थी जिसने खेमका के आदेश व इसे जारी करने के तौर- तरीकों की गलत करार दिया था। खेमका बनाम सरकार का टकराव बाद में बीजों की खरीद से जुड़े मामले में भी जारी रहा। एक तरह से खेमका अकेले ही पूरे सिस्टम से लोहा लेते दिखाइ्र्र दिए। इस बीच, कभी  उनके खिलाफ चार्जशीट सौंपे जाने के सैधांतिक फैसले सरकार ने लिए, तो दूसरी तरफ विजिलैंस का जाल भी उनके इर्द- गिर्द बुना जाने लगा।

खेमका ने यह पत्र गेंहू के बीजों की कम बिक्री पर उन्हें चार्जशीट थमाए जाने की सरकार की तैयारियों के संदर्भ में लिखा है। उन्होंने कहा कि बगैर उनका पक्ष लिए व मामले की गहराई में जाए बिना ही इस तरह चार्जशीट करने का फैसला लेना अपने आप में एक पहली मिसाल है। उन्होंने कभी नहीं देखा कि इतने सीनियर लेवल के अफसर का पक्ष जाने उसको चार्जशीट करने का फैसला लिया गया। खेमका मे कहा कि उनके मामले में 'एंपायर' न्यूट्रल नहीं है लेकिन फील्डिंग कर रही टीम का सलाहकार लगातार अपील करवा रहा है ताकि एकपक्षीय एंपायर उनके खिालफ उंगली उठा दे।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You