प्याज पर सियासत: शीला चाहती हैं बंद हो निर्यात

  • प्याज पर सियासत: शीला चाहती हैं बंद हो निर्यात
You Are HereNcr
Thursday, October 24, 2013-11:51 AM

नई दिल्ली ( ताहिर सिद्दीकी):  चुनावी मौके पर जहां प्याज की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि पर दिल्ली सरकार पॉलिटिक्स करने पर उतारू हो गई है, वहीं उसने विपक्ष को प्याज पॉलिटिक्स से बाज आने की नसीहत भी दे डाली है। कीमतों में वृद्धि से चिंतित मुख्यमंत्री शीला दीक्षित बुधवार को प्याज के मुद्दे पर मीडिया से रूबरू हुईं और कहा कि वह वीरवार को केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार से मुलकात कर दिल्ली में प्याज की आवक बढ़ाने तथा प्याज के निर्यात पर रोक लगाने की मांग करेंगी, लेकिन नेफेड के सूत्रों की मानें तो पिछले तीन महीने से प्याज का निर्यात पूरी तरह बंद है। 

चुनावी मौके पर मुख्यमंत्री सधे राजनेता की तरह राजनीति करने के साथ भाजपा पर कोई वार करने से भी नहीं चुक रही हैं। उन्होंने प्याज की कीमतों में वृद्धि के लिए बारिश के साथ भाजपा शासित राज्यों को भी जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि प्याज की कीमतों में वृद्धि भाजपा शासित गुजरात व मध्यप्रदेश में जमाखोरी के चलते भी हो रही है। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में देश में प्याज का औसत मूल्य 83 रुपए प्रति किलोग्राम है। कागजों का पुलिंदा पेश करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कानपुर में 80 रुपए, लखनऊ में 75 रुपए, कोलकाता में 65 रुपए, मुंबई में 60 रुपए, ग्वालियर में 65 रुपए अगरतला में 83 रुपए, शिमला, आइजवाल व भागलपुर में 80 रुपए, वाराणसी व तिरुवंनतपुरम में 70 रुपए, एर्नाकुलम में 69 रुपए, मंडी में 65 रुपए तथा जयपुर में 60 रुपए प्रति किलो के भाव से बिक रही है। उन्होंने दावा किया कि अगले कुछ दिनों में कीमतों में नरमी आनी शुरू हो जाएगी। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह कृषि मंत्री से मुलाकात कर प्याज के निर्यात पर रोक लगाने की मांग करेंगी। उन्होंने कहा कि इससे भी प्याज की कीमतों में नरमी आएगी। नेफेड के सूत्रों का कहना है कि पिछले तीन महीने से एक कुन्तल भी प्याज का निर्यात नहीं किया गया है।  केंद्र सरकार ने प्याज के निर्यात की न्यूनतम दर इतनी बढ़ा दी है कि निर्यातकों ने प्याज का निर्यात करना ही छोड़ दिया है। सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री ने आज नेफेड के वरिष्ठ अधिकारियों से प्याज की कैफीयत तलब की तो उन्हें बताया गया कि हाल में आए समुद्री चक्रवात के चलते प्याज उत्पादक राज्यों आन्ध्र प्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात, कर्नाटक व महाराष्ट्र में जमकर बारिश हुई है, जिसकी वजह से राजधानी में प्याज की आवक बुरी तरह प्रभावित हुई है। नेफेड ने मुख्यमंत्री को भरोसा दिलाया है कि अगले कुछ दिनों में स्थिति सामान्य हो जाएगी।  

Edited by:Jeta

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You