अब बीजेपी को इनैलो की गुगली

  • अब बीजेपी को इनैलो की गुगली
You Are HereNcr
Friday, October 25, 2013-10:37 AM


नई दिल्ली : दिल्ली  भारतीय जनता पार्टी की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। राजग की सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल की दिल्ली विधानसभा के लिए 16 उम्मीदवार उतारने की घोषणा के बाद इंडियन नैशनल लोकदल (इनैलो) ने भी ऐलान कर दिया है कि वह भी 12 सीटों पर अलग से उम्मीदवार उतारेगा। यह घोषणा इनैलो के वरिष्ठ नेता अभय चौटाला ने वीरवार को की।

हरियाणा में मुख्य विपक्षी और ओम प्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाले इस दल की यह घोषणा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के उस ऐलान के बाद हुई है, जिसमें उन्होंने कहा था कि हरियाणा में पार्टी का गठबंधन भजनलाल के बेटे कुलदीप विश्नोई के नेतृत्व वाली हरियणा विकास पार्टी के साथ रहेगा। इनैलो की कोशिश थी कि उसका हरियाणा में गठबंधन भाजपा से हो जाए।

दिल्ली विधानसभा चुनावी महासंग्राम में शिरोमणि अकाली दल के बाद वीरवार को चौटाला की पार्टी इंडियन नेशनल लोकदल भी कूद गई। पार्टी दिल्ली में करीब 12 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। दिल्ली में पार्टी का अभी एक विधायक है। यह ऐलान इनेलो के वरिष्ठ नेता अभय चौटाला ने वीरवार को  राजधानी में  किया। उनके मुताबिक जो सीटें फाइनल हुई हैं उनमें नजफगढ़, मटियाला, पालम, विकासपुरी, उत्तमनगर, द्वारका, नरेला, मुण्डका, देवली, बवाना, महरौली व ब्रिजवासन है। इन पर प्रत्याशियों के नामों की घोषणा दीपावली के आसपास की जाएगी।

इनेलो नेता अभय चौटाला ने कहा कि पार्टी की दिल्ली इकाई अगर चाहेगी तो दिल्ली के कुछ और विधानसभा क्षेत्रों में भी इनेलो अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतार सकती है। इस मौके पर दिल्ली प्रदेश इकाई के अध्यक्ष विधायक चौधरी भरत सिंह, दिल्ली के प्रदेश महासचिव दिनेश डागर व पार्टी की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष अशोक अरोड़ा भी मौजूद थे।

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हरियाणा के साथ लगे ज्यादातर विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी अपने प्रत्याशी उतारेगी। इनेलो का मुख्य मकसद कांग्रेस को सत्ता से बाहर कर लोगों को राहत पहुंचाना है। दिल्ली व हरियाणा में कांग्रेस की सरकारें होने के साथ-साथ केंद्र में भी कांग्रेस की सरकार है लेकिन कानून व्यवस्था की स्थिति का पूरी तरह दिवाला निकल चुका है। हत्या, बलात्कार, अपहरण, फिरौती की घटनाएं निरंतर बढ़ रही हैं और दिल्ली सहित एनसीआर में आम आदमी और विशेषकर महिलाएं अपने आपको पूरी तरह से असुरक्षित महसूस कर रही हैं। कांग्रेस सरकार लोगों को बिजली-पानी जैसी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने में भी विफल रही है और दैनिक इस्तेमाल में आने वाली वस्तुओं के दामों में निरंतर बढ़ोतरी से आम आदमी की जिंदगी बेहाल हो गई है। शीला सरकार दिल्ली के देहात के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है और विकास में दिल्ली के ग्रामीण क्षेत्रों की पूरी तरह अनदेखी की जा रही है।

गौरतलब है कि इस समय दिल्ली विधानसभा में इनेलो का एक विधायक एवं दिल्ली नगर निगम में इनेलो के चुनाव चिह्न पर 3 पार्षद हैं। प्रेस कांफ्रेंस के मौके पर दिल्ली के विधायक एवं इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी भरत सिंह ने कहा कि इनेलो दिल्ली में विकास के मुद्दे पर चुनाव मैदान में उतरेगी और नजफगढ़ में उनके द्वारा करवाए गए विकास कार्यों के बल पर वोट मांगने का काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि चुनाव जीतने के बाद इनेलो सभी क्षेत्रों में प्राथमिकता के आधार पर विकास कार्य करवाएगी और दिल्ली के लोगों को सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You