बीजेपी के दिग्गज बोले-हम एकजुट

  • बीजेपी के दिग्गज बोले-हम एकजुट
You Are HereNcr
Friday, October 25, 2013-10:53 AM


नई दिल्ली: बीजेपी  के प्रदेश अध्यक्ष विजय गोयल को मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवारी की दौड़ में पछाडऩे वाले मृदु-भाषी डा. हर्षवर्धन ने दिल्ली इकाई में वीरवार को एकता की तस्वीर पेश की। एकजुटता का यह खेल भले ही दिखावा हो, लेकिन इसके प्रयास में हर्षवर्धन ने दिल्ली के सभी दिग्गजों को एक धागे में पिरो दिया। इस क्षण के लिए गवाह बना राष्ट्रीय भाजपा का कार्यालय, जहां नेशनल मीडिया ने दिल्ली ईकाई के इस सुखद क्षण को कैद किया।

भाजपाईयों को बखूबी पता है कि नेशनल मीडिया इस एकजुटता को दिखाएगा तो बात दूर तलक जाएगी, और बीजेपी अपने मकसद पर कामयाब होगी। यही कारण है कि दिल्ली के प्रभारी नितिन गडकरी, विजय गोयल, दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजय कुमार मल्होत्रा और दिल्ली इकाई के पूर्व अध्यक्ष विजेन्द्र गुप्ता की उपस्थिति में हर्षवर्धन ने दावा किया कि ‘भ्रष्ट कांग्रेस सरकार’ को उखाड़ फेेंकने में पार्टी कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोड़ेगी।


 उन्होंने कहा कि दिल्लीवासी दिसम्बर में आजाद हो जाएंगे, और उसके पांच महीने बाद देश से आजादी मिल जाएगी। अपने पहले संवाददाता सम्मेलन में डॉ. हर्षवर्धन ने शीला दीक्षित सरकार पर जमकर बरसे। कहा कि भ्रष्ट और निकम्मी सरकार की वजह से देश की राजधानी अपना पुराना गौरव खो चुकी है। दिल्ली बीमारु राज के रूप में तबदील हो चुकी है। यह आईसीयू में है और इसे पूरी सतर्कता के साथ उपचार की जरुरत है। भाजपा चुनाव जीतने के बाद सकारात्मक कदमों और सही सोच से दिल्ली का पुराना गौरव लौटाने की दिशा में तेजी से काम करेगी।

 मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने के दूसरे दिन हर्षवर्धन ने आज वायदा किया कि सत्ता में आने पर वह शासन में ‘आमूल-चूल सुधार’ लाएंगे। कांग्रेस के शासन पर दिल्ली की जनता पर ‘दुखों का पहाड़’ खड़ा कर देने और राष्ट्रीय राजधानी को आईसीयू में डालने की हालत में ले आने का आरोप लगाते हुए उन्होंने भरोसा दिलाया कि भाजपा के सत्ता में आने पर यहां की जनता को ‘साफ-सुथरा, पारदर्शी और जन-शासन’ उपलब्ध कराया जाएगा।

दिल्ली में भाजपा शासन के दौरान स्वास्थ्य मंत्री रहे हर्षवर्धन ने कहा, कि पार्टी के सभी नेता और कार्यकर्ता भ्रष्ट और निष्प्रभावी कांगे्रस सरकार सत्ता से बेदखल करने के लिए एकजुट होकर कार्य करेंगे। यह सरकार सभी मोर्चो पर असफल रही है। गरीब जनता नरक जैसी स्थिति में जी रही है। राष्ट्रीय राजधानी आईसीयू में है और उसे मरहम की जरूरत है। दिल्ली की साख कांग्रेस ने चौपट कर दिया है, उसे वापस लौटाना है। इस अवसर पर गडकरी ने विश्वास जताया कि हर्षवर्धन के नेतृत्व में भाजपा दिल्ली से कांग्रेस के 15 साल के शासन को उखाड़ फेंकेगी।  आम-ओ-खास में ‘डाक्टर साहब’ कह कर पुकारे जाने वाले हर्षवर्धन ने कहा, ‘बहुत जल्दी दिल्ली की जनता को शीला दीक्षित के कुशासन से मुक्ति मिलेगी।

गोयल ने किया अंदरूनी कलह से इनकार
  
मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवारी की दौड़ में पीछे रह गए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विजय गोयल ने इस मौके पर कहा कि पार्टी में किसी तरह की अंदरूनी कलह से इंकार किया। हर्षवर्धन की प्रशंसा करते हुए उन्होंंने कहा कि दिल्ली में भाजपा को फिर से शासन में लाने में कोई कसर बाकी नहीं रखी जाएगी। गोयल ने कहा, कि कांग्रेस की इस भ्रष्ट सरकार को सत्ता से बाहर करने के लिए पार्टी एकजुट होकर मोर्चा संभालेगी। दिल्ली की जनता कांग्रेस के कुशासन से आजिज़ आ चुकी है। हमारी विजय के लिए मैं आश्वस्त हूं। भाजपा अध्यक्ष ने कहा, कि मुझे हर्षवर्धन के बारे में कुछ बताने की जरूरत नहीं है। वह लोकप्रिय नेता हैं। दिल्ली को पोलियो से मुक्त कराने में उनकी भूमिका की देश में और देश के बाहर खूब सरहाना हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा सत्ता में आने पर पहला काम बिजली की दरों में कटौती करने का करेगी।

भाजपा मां-बेटे की पार्टी नहीं : गडकरी
 दिल्ली भाजपा में अंदरूनी कलह की मीडिया रिपोर्ट को खारिज करते हुए पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कोई मां-बेटे की पार्टी नहीं है। हमारे दल का आंतरिक लोकतंत्र हर किसी को उसके विचार रखने की स्वतंत्रता देता है। दावा किया, दिल्ली भाजपा पूरी तरह एकजुट है। मुझे विश्वास है कि 4 दिसंबर को होने जा रहे विधानसभा चुनाव में हम दो-तिहाई बहुमत से विजयी होंगे। गडकरी ने कहा, ‘मेरी शुभकामनाएं गोयल के साथ हैं। जब हर्षवर्धन के नाम की घोषणा की गई उन्होंने उसका तहे दिल से स्वागत किया। पिछले 9 माह से उन्होंने पार्टी को मजबूती देने में कड़ी मेहनत की है। मुख्यमंत्री पद के लिए भाजपा में कल तक लगी होड़ के बारे मेें किए गए सवालों के जवाब में दिल्ली प्रभारी नितिन गडकरी ने पार्टी के निर्णय को पूरी तरह स्वीकार किए जाने के लिए विजय गोयल को बधाई दी। उन्होंने कहा, एक कुर्सी पर एक से अधिक व्यक्ति नहीं बैठ सकते हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You