सोशल मीडिया से प्रचार पर रहेगी नजर

  • सोशल मीडिया से प्रचार पर रहेगी नजर
You Are HereDelhi Election
Saturday, October 26, 2013-10:47 AM

नई दिल्ली : राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों की ओर से इंटरनेट और सोशल मीडिया पर चुनाव प्रचार के लिए डाली गयी सामग्री पर अब चुनाव आयोग की पैनी नजर रहेगी। आयोग ने शुक्रवार को इस मामले में विस्तृत दिशा निर्देश जारी किए। आयोग ने सभी राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों को निर्देश दिया है कि वह अपने विज्ञापनों को सोशल मीडिया की वेबसाइटों पर डालने से पहले उन्हें पूर्व प्रमाणित कराए।

आयोग ने आगामी विधानसभा चुनाव लडऩे जा रहे प्रत्याशियों से अपने इंटरनेट-सोशल मीडिया खातों की जानकारी देने और इन्हें बनाने में खर्च राशि के बारे में भी ब्योरा देने को कहा है। हालांकि उम्मीदवारों और राजनीतिक दलों के अतिरिक्त अन्य लोगों या संगठनों द्वारा फेसबुक या ट्विटर आदि पर डाली गयी सामग्री के संबंध में चुनाव आयोग ने कहा है कि वह सरकार के साथ इस विषय पर परामर्श करके व्यावहारिक रास्ता निकालने की कोशिश कर रहा है।


दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश, मिजोरम और छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनावों से पहले विस्तृत दिशा निर्देश जारी करते हुए चुनाव आयोग ने दावा किया कि पारदर्शिता के लिए इस तरह के कदम उठाये जा रहे हैं और ये सभी के लिए समान अवसर प्रदान करेंगे। आयोग ने अपने दिशा-निर्देशों में कहा है कि ‘‘इंटरनेट पर डाली जा रही सामग्री पर आदर्श आचार संहिता के प्रावधान और समय समय पर जारी संबंधित दिशानिर्देश भी लागू होंगे।
 

देश में सभी राज्यों और अनेक राजनीतिक दलों के मुख्य चुनाव अधिकारियों को निर्देश देते हुए चुनाव आयोग ने कहा कि राजनीतिक दलों-उम्मीदवारों द्वारा कोई भी राजनीतिक विज्ञापन सक्षम अधिकारियों की तरफ से उसी प्रारूप में पूर्व प्रमाणित कराये बिना सोशल मीडिया की वेबसाइटों समेत इंटरनेट मीडिया पर जारी नहीं किया जाएगा।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You