मुजफ्फरनगर दंगो पर भाषण देकर बुरे फंसे राहुल!

  • मुजफ्फरनगर दंगो पर भाषण देकर बुरे फंसे राहुल!
You Are HereNational
Saturday, October 26, 2013-1:15 PM

नई दिल्ली: राहुल गांधी के मुजफ्फरनगर दंगों पर दिए गए बयान को लेकर बीजेपी का सवाल है कि राहुल किस आधार पर बीजेपी पर मुजफ्फरनगर दंगा भड़काने का आरोप लगा रही है। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के मुजफ्फरनगर में दंगा पीड़ित मुस्लिम युवकों के संपर्क में होने के राहुल गांधी के बयान से गृह मंत्रालय भी हैरान है, वहीं इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने ऐसी किसी जानकारी या रिपोर्ट से इनकार किया है।

गृह मंत्रालय के एक सीनियर अधिकारी ने बताया, 'हमारे पास ऐसी कोई फाइल नहीं आई है।' एक दूसरे वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अगर ऐसी कोई रिपोर्ट होती तो गृह मंत्रालय उत्तर प्रदेश सरकार से जरूर साझा करता, अगर ऐसा नहीं हुआ है तो साफ है कि ऐसा कुछ भी नहीं है।

उत्तर प्रदेश पुलिस के एडीजी (लॉ ऐंड ऑर्डर) मुकुल गोयल ने भी कहा कि हमें ऐसी कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि गृह मंत्रालय और आईबी से इस बारे में कोई इनपुट नहीं है। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी का इस बारे में कहना है, ' यह भी संभव है कि आईबी के किसी अतिउत्साही अधिकारी ने राहुल गांधी को ऐसी जानकारी दी हो, जो अभी तक हुई ही नहीं है।' इस अधिकारी का यह भी कहना था कि संभावना इस बात की भी है कि राहुल पूरे मुद्दे को ठीक से समझ न पाए हों।

बतां दे कि राहुल गांधी ने उत्तरप्रदेश के मुजफ्फनगर दंगों के बाद अनेक मुस्लिम युवकों से पडोसी देश पाकिस्तान के लोगों ने बात करके उनको बहकाने का प्रयास किया। गांधी ने यहां कांग्रेस की परिवर्तन रैली के तहत चुनावी सभा को संबोधित करते हुए यह बात कही थी। उन्होंने कहा था कि दंगों के बाद वह स्वयं पीडितों से जाकर मिले थे। इसके बाद (इंटेलीजेंस) विभाग के एक अधिकारी ने उन्हें बताया कि ऐसे दस-बारह लडके हैं जिनके परिजनों को दंगों के दौरान नुकसान पहुंचा। इसके बाद पाकिस्तान के लोग इन लडकों से बात करना प्रारंभ करते हैं।  वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने अधिकारी के हवाले से कहा कि लेकिन अधिकारी उन लडकों से अनुरोध करता है कि वे इनकी (पडोसी) बातों में नहीं आएं।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You