जुबानी जंग छिड़ी, कांग्रेस ने पूछे भाजपा से सवाल

  • जुबानी जंग छिड़ी, कांग्रेस ने पूछे भाजपा से सवाल
You Are HereNcr
Saturday, October 26, 2013-4:01 PM

नई दिल्ली:  विधानसभा चुनावों के करीब आते ही दिल्ली की दोनों प्रमुख पार्टियों भाजपा और कांग्रेस में जुबानी जंग तेज हो गई है।
कांग्रेस ने भाजपा पर काउंटर अटैक करते हुए कहा है कि दिल्ली आईसीयू में नहीं है असलियत तो ये है कि 15 साल पहले दिल्ली के लोगों ने बीजेपी को आईसीयू में भेज दिया था और इस बार 4 दिसंबर को जनता भाजपा को वेंटिलेटर पर भेज देगी।

कांग्रेस के विधायक दल के प्रवक्ता मुकेश शर्मा का ये बयान भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार डा. हर्षवर्धन की उस टिप्पणी का जवाब था जिसमें उन्होंने कहा था कि 15 सालों में कांग्रेस ने दिल्ली की हालत आईसीयू में भर्ती कराने जैसी कर दी है।
कांग्रेस का कहना था कि बीजेपी डॉ. हर्षवर्धन को पेश कर चुनावी वैतरणी पार करना चाहती है लेकिन 5 साल तक स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए भी उनके कार्यकाल के दौरान राजधानी में एक भी नया अस्पताल नहीं खोला गया। इसी के साथ कांग्रेस ने डॉ. हर्षवर्धन से 15 सवालों के जवाब मांगे है।

प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेस विधायक दल के प्रवक्ता मुकेश शर्मा तथा प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता जितेंद्र कोचर ने भाजपा पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि डॉ. हर्षवर्धन उस फ्लॉप सरकार की टीम के हिस्सा हैं, जिसने 5 साल में तीन मुख्यमंत्री बदल दिए। वह पांच साल तक दिल्ली के मुख्यमंत्री रहे लेकिन इस दौरान एक भी नया अस्पताल नहीं खोला गया। जितेंद कोचर ने भाजपा शासित एम.सी.डी. पर हमला बोलते हुए कहा कि एम.सी.डी. दुनिया की सबसे भ्रष्ट म्यूनिसिपल कार्पोरेशन है। उन्होंने कहा कि इसमें भ्रष्टाचार का आलम यह है कि बिना घूस दिए मृत्यु प्रमाण भी नहीं मिलते। उन्होंने कहा कि डेंगू से हजारों लोग अपनी जान गंवा चुके हैं और इसकी जिम्मेदारी एम.सी.डी. पर है।

भाजपा से सवाल-
  1. क्या यह सही नहीं है कि दिल्ली की सभी फैक्टरियों को  एन.डी.ए. सरकार के समय में प्रदूषण के नाम पर बन्द करके लाखों मजदूरों को दिल्ली से खदेडऩे की साजिश रची गई ?
 2.क्या यह सही नहीं है कि दिल्ली की अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने के लिए 872 रुपए वर्ग गज के हिसाब से विकास शुल्क लगाने संबंधी शपथ-पत्र  दिल्ली उच्च न्यायालय में नहीं दिए गए ?
3. क्या यह सही नहीं है कि एन.डी.ए. के शासन में दिल्ली के गांव का लाल डोरा बढ़ाने के लिए कुछ नहीं किया गया?
4. क्या यह सही नहीं है कि  दिल्ली में बिजली को लेकर सैंकड़ों दंगे भाजपा के शासनकाल में दर्ज नहीं हुए थे तथा दिल्ली में 16-16 घंटे बिजली नहीं आती थी ?
 5. क्या यह सही नहीं है कि भाजपा सरकार ने अनधिकृत कॉलोनियों के नियमन के खिलाफ  दिल्ली  उच्च न्यायालय से स्टे ऑर्डर लेने वाले  एच.डी. शोरी को सरकारी खजाने से सम्मानित नहीं किया गया?
6. क्या यह सही नहीं है कि भाजपा के कार्यकाल में कट्टू का आटा खाकर नवरात्रों के दिनों में लोग बीमार हुए और कइयों की जानें गईं थी?
7. क्या यह सही नहीं है कि नगर निगम की नाकामी के चलते डेंगू से बड़ी संख्या में लोगों की जानें गई जिनमें बच्चे भी शामिल हैं?                        




   

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You