भाजपा में टिकट पर घमासान, हर्षवर्धन और विजय गोयल में टकराव

  • भाजपा में टिकट पर घमासान, हर्षवर्धन और विजय गोयल में टकराव
You Are HereNational
Monday, October 28, 2013-10:50 AM

नई दिल्ली (सतेन्द्र त्रिपाठी): भाजपा के मुख्यमंत्री पद के घोषित उम्मीदवार डॉ.हर्षवर्धन व प्रदेश अध्यक्ष के विजय गोयल एक बार फिर आमने-सामने है। इस पर इन दोनों के बीच घमासन पार्टी के विधायकों की टिकटों को लेकर है। 

गोयल सात ऐसे विधायकों को टिकट देने के पक्ष में नहीं हैं, जिनकी रिपोर्ट सर्वे में अच्छी नहीं आई है। इन विधायकों के इलाके में नगर निगम चुनाव में पार्टी की स्थिति बहुत अच्छी नहीं रही थी। इससे उलट हषवर्धन मौजूदा सभी 24 विधायकों को फिर से टिकट देने के लिए तत्पर हैं। उम्मीद है कि एक-दो दिन में विधायकों को टिकटों की घोषणा कर दी जाएगी। अब देखना होगा कि चलती  किसकी है। 

भाजपा सूत्रों के मुताबिक प्रदेश अध्यक्ष विजय गोयल ने एक सर्वे कराया था। इस सर्वे में सात मौजूदा विधायकों की रिपोर्ट कुछ अच्छी नहीं आई थी। इनमें सबसे पहले नंबर पर हैं, शकूरबस्ती के विधायक श्याम लाल गर्ग। इस विधानसभा क्षेत्र में पार्टी निगम की दो सीटें हार गई थी। कुछ ऐसी ही हालत द्वारका के विधायक प्रदुमन राजूपत की है, जो अपने चारों प्रत्याशियों को निगम चुनावों में  नहीं जिता पाए थे। इन पर आरोपों की बौछार करते हुए निगम पार्षद प्रवीन राजपूत ने पार्टी ही छोड़ दी। पार्टी की उपाध्यक्ष विशाखा सैलानी भी चुनाव हार गई थीं। गोयल यहां से प्रवीन को टिकट देने के मूड में हैं। पालम के विधायक धर्मदेव सोलंकी की हालत भी कुछ अच्छी नहीं है। पार्षद रहे विजय पंडित से टिकट पर विधायक से टकराव हुआ। उनकी पत्नी सीमा पंडित ने इनेलो के टिकट चुनाव लड़ा और जीत गईं। गोयल यहां से विजय पंडित को लड़वाना चाहते हैं। 

चौथे नंबर पर त्रिलोकपुरी से विधायक सुनील वैद्य हैं। वह पिछली बार ही बहुत कम वोट से जीते थे, लेकिन पांच साल में जनता में अच्छी पकड़ नहीं बना पाए। निगम चुनाव में वह तीन सीटें हार गए। उनकी जगह पर गोयल पूर्व पार्षद डॉ.हरिशंकर के पक्षधर है। पांचवें नंबर पर किराड़ी के विधायक अनिल झा हैं। वह पिछले विधानसभा में भी दो निर्दलीय प्रत्याशियों की वजह से जीत पाए थे। गोयल उनकी जगह पर उनकी पत्नी पूनम पराशर को चुनाव लड़ाना चाहते है। छठें नंबर पर बुराड़ी से किशन त्यागी हैं। सातवें विधायक हैं संगम विहार से एससीएल गुप्ता। उनका टिकट भी खतरे में था, अब हषवर्धन की ताकत बढऩे पर वह भी बच सकते हैं। 

 

 

Edited by:Jeta
अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You