चीन दोस्ती के नाम पर आंख में धूल झोंक रहा है

  • चीन दोस्ती के नाम पर आंख में धूल झोंक रहा है
You Are HereNational
Monday, October 28, 2013-5:07 PM

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भारत चीन सीमा को दुनिया की सबसे शांत सीमा बताकर भले ही बीजिंग की दो दिन की हालिया यात्रा की सफलता के लिए अनुकूल माहौल बनाने की कोशिश की है लेकिन असलियत इसके उलट है और पड़ोसी मुल्क आडम्बर करके आंख में धूल झोंकने का काम कर रहा है।


भारत और चीन के बीच सबसे लंबी विवादित सीमा है। चीन की सीमाएं 14 देशों से लगी है और लगभग सभी के साथ उसका सीमा
विवाद रहा है। ज्यादातर देशों के साथ उसने सीमा समझौता भी कर लिया है लेकिन भारत के साथ चीन की सबसे लंबी सीमा है जिसका
अब तक निर्धारण नहीं हुआ है। इसी का लाभ उठाकर उसकी सेना बार बार भारतीय सीमा में घुसकर धमकाती रही है। अरुणाचल प्रदेश को वह अपना हिस्सा मानता है और अपने सरकारी नक्शे पर इसे बाकायदा अपने क्षेत्र के रूप में दिखा रहा है। इसको लेकर कई बार भारत ने विरोध भी जताया है।

लद्दाख के दौलत बेग ओल्डी में देप्सांग बल्ज में इस वर्ष 15 अप्रैल को भारतीय सीमा में कई किलोमीटर भीतर अपने तम्बू लगा दिए थे। उसके सैनिक भारतीय सीमा में थे और कई दिन बाद हमको इसकी भनक लगी। होहल्ला करके मुश्किल से चीनी सैनिक वापस लौटे लेकिन इस वजह से देश में तनाव की स्थिति रही। जिस चीन को भारत अपना मित्र मानता है उसके सैनिक भारत की सीमा पर झंडा गाड़े रहे और हमारी सरकार उन्हें वापस करने के लिए राजनयिक रास्ता ही तलाशती रही। तिब्बत पर उसका कब्जा है और उसे नियंत्रित करने के लिए यह क्षेत्र उसके लिए सामरिक ²ष्टि से महत्वपूर्ण है। इसी वजह से इस क्षेत्र का ढांचागत विकास उसकी प्राथमिकता रही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You