ठंड बढऩे के साथ ही फिर फैलेंगी बीमारियां

  • ठंड बढऩे के साथ ही फिर फैलेंगी बीमारियां
You Are HereNcr
Monday, October 28, 2013-1:01 PM

 नई दिल्ली (निहाल सिंह): राजधानी में डेंगू के बाद ठंड से सावधान रहने की जरूरत है। क्योंकि जैसे-जैसे तापमान में नमी बढ़ेगी वैसे ही मौसमजनित बीमारियों की फैलने की भी आशंका है। थोड़ी सावधानी कई बीमारियों से बचा सकती है। 

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक मौसम बदलने से वायरल फीवर सबसे पहले अटैक करता है। विषाणुओं के संक्रमण से होने वाले इस बुखार के साथ सिरदर्द, जोड़ों में दर्द, थकान और गले में दर्द, बदन-दर्द, आँखें लाल होना, लेटने के बाद उठने में कमजोरी महसूस करना, भूख न लगने जैसी समस्याएं सामने आती हैं। इसके साथ ही खासी,जुकाम, खुजली जैसी बीमरियां भी मुहं ताक रही होती है। ठंड के मौसम में विशेषज्ञ बुजुर्गों को खास ख्याल रखने की सलाह देते है। क्योंकि ठंड में अस्थामा के रोगियों को काफी खतरा होता है।  

डॉ अनिल अग्रवाल कहते हैं, ठंड में खुद की सजगता से ही ज्यादातर बीमरियों से बचा जा सकता है। एक दम कमरे से बाहर न निकले और हल्के गर्म कपड़ो का प्रयोग करे तो मौसमी बीमारी को मात दी जा सकती है। 

खुद से इलाज हो सकता है घातक

-अक्सर ठंड में बीमार पडऩे के बाद लोग खुद ही अपना इलाज करने लग जाते है, लेकिन विशेषज्ञ खुद से ही अपना इलाज करना बड़ा घातक मानते है। 

-डॉक्टरों का कहना है कि खुद से इलाज से रोगी को गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। 

-ठंड में बुखार के साथ कई अन्य बीमारियां भी पनपती है, जो खुद से इलाज करने के चलते पकड़ में नहीं आ पाती। 

-डॉक्टरों का कहना है कि ऐसे हालत में खुद से इलाज करने से जितना हो सके बचे। सर्दी, खांसी या बुखार होने पर तुरन्त अपने नजदीकी डॉक्टर या अस्पताल में संपर्क करना चाहिए।

 

 

 

Edited by:Jeta

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You