30 विधायकों के पुन:प्रत्याशी बनाने का लिया गया निर्णय

  • 30 विधायकों के पुन:प्रत्याशी बनाने का लिया गया निर्णय
You Are HereNational
Tuesday, October 29, 2013-12:53 PM

नई दिल्ली : कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की एक खास बैठक हुई।  बैठक में 30 विधायकों को आगामी विधानसभा चुनाव में पुन: प्रत्याशी बनाने का निर्णय लिया गया। उन्हें दिवाली के एक या 2 दिन बाद पार्टी द्वारा पुन: उम्मीदवार बनाकर गिफ्ट दिया जा सकता है।

वही दूसरी ओर पार्टी के एक दर्जन विधायकों के बारे में कोई फैसला नहीं लिया गया है। ऐसा माना जा रहा है कि जिन विधायकों पर आपराधिक मामले चल रहे हैं या जो गत चुनाव में हजारों मतों के अंतर से पराजित हुए थे, उनका टिकट कट सकता है। उनकी जगह पार्टी मेंस्वच्छ छवि वाले सक्रिय और जमीन से जुड़े कार्यकर्ताओं को मौका दिये जाने पर मंथन किया जा रहा है।
 
दिल्ली विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों के चयन के लिए केंद्रीय चुनाव समिति की अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांंधी के आवास पर आज बैठक  हुई। बैठक में स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष व केंद्रीय मंत्री नारायण सामी,  पार्टी के दिल्ली प्रभारी डॉ. शकील अहमद,  मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जेपी अग्रवाल शामिल थे। एक-एक उम्मीदवार का चयन करते हुए काफी विचार किया गया। करीब डेढ़ घंटे तक चली बैठक में कुछ क्षणों के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी पहुंचे, लेकिन जब उन्हें पता चला कि दिल्ली के उम्मीदवारों के चयन को लेकर बैठक चल रही है, तो वह उल्टे पांव लौट गए।

सूत्रों के अनुसार केंद्रीय समिति ने उम्मीदवारों का चयन करते हुए चार बातों पर विशेष ध्यान रखा है। पहला जिन विधायकों के कामकाज का प्रदर्शन संतोषजनक नहीं रहा या इलाके के कार्यकर्ताओं में उनके कामकाज को लेकर रोष है, उनका टिकट रोका जा सकता है। दूसरा जिन विधायकों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं उनकी जगह भी दूसरों को उम्मीदवार बनाया जा सकता है। तीसरा कारण यह है कि आवेदन करने जो कार्यकर्ता पिछला चुनाव काफी मतों के अंतर से हारे थे और चौथा पार्टी द्वारा कराई गई जांच में जिन विधायकों की अंदरूनी रिपोर्ट ठीक नहीं है, उनका टिकट कटना तय माना जा रहा है। 

सूत्रों का मानना है कि जिन विधायकों के नामों पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है उनमें किरण वालिया के अलावा नीरज बसौया, जसवंत राणा, तरविंदर सिंह मारवाह, देवेन्द्र यादव, अरविंदर सिंह लवली, नंद किशोर, दयानंद चंदेला, मालाराम गंगवाल, मौ.आसिफ, चौ. प्रेम सिंह आदि के नाम शामिल हो सकते हैं। उम्मीदवारों के नाम पर मुहर लगाते हुए राहुल गांधी की उस बात को याद रखा जा रहा है कि बेदाग छवि और जमीन से जुड़े सक्रिय कार्यकर्ताओं को आगे लाना होगा। जेपी अग्रवाल से जब इस सम्बंध में बातचीत की गई, तो उन्होंने यह तो स्वीकार किया कि सुबह कांग्रेस हाईकमान सोनिया गांधी के साथ बैठक हुई थी। बैठक में बारे में कोई भी जानकारी देने से मना करते हुए उन्होंने केवल इतना कहा कि दिवाली के अगले दिन कुछ उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की जा सकती है। पता चला है यदि भाजपा ने अगले तीन दिनों में अपने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी, तो कांग्रेस भी पीछे नहीं रहेगी। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You