‘ऐतिहासिक श्रीरंगम कस्बे पर ताजा रोशनी डाल सकती है खुदाई’

  • ‘ऐतिहासिक श्रीरंगम कस्बे पर ताजा रोशनी डाल सकती है खुदाई’
You Are HereNational
Tuesday, October 29, 2013-1:17 PM

तिरचिरापल्ली: एक शीर्ष पुरातत्वविद के अनुसार श्रीरंगम के ऐतिहासिक मंदिर के भीतर खुदाई करने पर प्राचीन सभ्यता की अधिक स्पष्ट तस्वीर सामने आने की उम्मीद है। वरिष्ठ पुरातत्वविद और तमिलनाडु सरकार के सलाहकार के टी नरसिम्हा ने ‘पीटीआई’ से कहा कि मंदिर के पूर्व की ओर 1000 खंभों वाले मंडपम् में एक जोड़ के निकट मिले पत्थर के हाथी ‘ हस्थी हस्थ’ के समीप खुदाई की जानी चाहिए। उन्होंने बताया कि इससे पहले मंडपम् के निकट राज्य के पुरातत्वविदों ने जो खुदाई की थी उसमें कुछ शिलालेखों का पता लगा था।

उन्होंने कहा, ‘‘ लेकिन जोड़ के कोने के निकट खुदाई करने से प्राचीन सभ्यता की स्पष्ट तस्वीर सामने आएगी।’’ नरसिम्हा ने कहा कि हस्था हस्थी के निकट खुदाई करने सेे कुंबाकोणम के निकट दरासुरम मंदिर में सीढियों या चौराहों का पता चलेगा और इससे 5000 वर्ष पहले की सभ्यता और रहन सहन के बारे में भी पता चल सकता है। केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय के अधीन केंद्रीय पुरातत्व सलाहकार बोर्ड :सीएबीए: ने श्रीरंगम में खुदाई को हरी झंडी दे दी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You