‘क्या भाजपा, आरएसएस सरदार पटेल के विचार से सहमत है?’

  • ‘क्या भाजपा, आरएसएस सरदार पटेल के विचार से सहमत है?’
You Are HereNational
Tuesday, October 29, 2013-5:14 PM

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने मंगलवार को कहा कि भारत के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) का विरोध किया था। इसके साथ ही उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से पूछा कि क्या वह सरदार पटेल के इस विचार से सहमत हैं।

तिवारी ने कहा कि भाजपा और उनके प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी, सरदार पटेल की विरासत को हथियाने की कोशिश कर रहे हैं। मनीष ने कहा, ‘‘आरएसएस और भाजपा सरदार पटेल की विरासत को हथियाने की कोशिश कर रही है।’’ उन्होंने यहां संवादादातओं से कहा, ‘‘मैं भाजपा से यह पूछना चाहता हूं कि क्या वह आरएसएस पर सरदार पटेल के  विचार का समर्थन करती है या उससे सहमत है।’’ सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने मंगलवार सुबह ट्विटर पर लिखा, ‘‘पटेल ने गोलवल्कर के नेतृत्व वाले आरएसएस द्वारा फैलाए सांप्रदायिक जहर का उल्लेख किया था। क्या स्वयंसेवक मोदी, आरएसएस पर पटेल के विचार से सहमत हैं? किनकी विरासत वह चाह रहे हैं?’’

तिवारी ने आगे ट्वीट किया, ‘‘पटेल ने गोलवल्कर से कहा था कि सांप्रदायिकता की वजह से देश को गांधीजी के अमूल्य जीवन का बलिदान देना पड़ा।’’ भाजपा, विशेषकर मोदी ने अक्सर कांग्रेस पर पटेल की विरासत की अनदेखी करने और नेहरू-गांधी वंश को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You