नरेंद्र मोदी को रोकने के लिए 17 राजनीतिक पार्टियों का बनेगा फ्रंट!

  • नरेंद्र मोदी को रोकने के लिए 17 राजनीतिक पार्टियों का बनेगा फ्रंट!
You Are HereNational
Thursday, October 31, 2013-8:31 AM

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव से पहले तीसरा मोर्चा बनाने के प्रयासों के बीच वाम पार्टियों सहित जद (यू), अन्नाद्रमुक, बीजद और यू.पी.ए. के घटक दल राकांपा के नेता आज यहां एक सम्मेलन में मिले और फासीवादी तथा साम्प्रदायिक शक्तियों से उपजे खतरे को परास्त करने के लिए एकजुटता की जरूरत बताई।

बेशक देश के 2 बड़े राष्ट्रीय दलों कांग्रेस और भाजपा ने तीसरे मोर्चे की संभावना को खारिज कर दिया मगर 17 गैर-कांग्रेस और गैर-भाजपा दलों के नेताओं ने एक मंच पर आकर दिखा दिया कि समय और परिस्थितियां आने पर उन्हें एकजुट होने में देर नहीं लगेगी।

17 राजनीतिक दलों ने सम्मेलन में जिस तरह सांप्रदायिक ताकतों का विरोध किया है उससे स्पष्ट होता है कि ये सभी दल गुजरात के मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री पद के भाजपा प्रत्याशी नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक फ्रंट बनाने की तैयारी में हैं।

देश की सांझा विरासत और मिली-जुली संस्कृति को बचाए रखने के लिए आज यहां हुए सांप्रदायिकता विरोधी सम्मेलन में ज्यादातर उन दलों के नेता मौजूद थे जो 1996 में बनी राष्ट्रीय मोर्चा की सरकार में शामिल थे।

सम्मेलन में समाजवादी पार्टी के मुलायम सिंह यादव, जनता दल (यू) के नीतीश कुमार और शरद यादव, जनता दल (एस) के एच.डी. देवेगौड़ा, झारखंड विकास मोर्चा के बाबू लाल मरांडी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के ए.बी. वद्र्धन, माक्र्सवादी  पार्टी के प्रकाश कारत, असम गण  परिषद  के प्रफुल्ल महंत के अलावा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, बीजू जनता दल, अन्नाद्रमुक, रिपब्लिकन पार्टी, फारवर्ड ब्लाक, पीपुल्स पार्टी आफ पंजाब और  रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।

 नेताओं ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए भाजपा तथा उसके  प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पर कड़े प्रहार किए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You