तैयार हो रहा है कांग्रेस का घोषणा-पत्र

  • तैयार हो रहा है कांग्रेस का घोषणा-पत्र
You Are HereNcr
Thursday, October 31, 2013-11:10 AM

नई दिल्ली ( ताहिर सिद्दीकी):  दिल्ली की सत्ता पर 15 साल से काबिज कांग्रेस एक बार फिर बेहद सतर्कता और मेहनत के साथ अपना चुनावी घोषणा पत्र तैयार करने में जुटी है। नवंबर के पहले हफ्ते तक घोषणा पत्र तैयार करने का अनुमान है। कांग्रेस की रणनीति घोषणा पत्र को हर वर्ग से जोड़कर वोट बटोरने की है। 

घोषणा पत्र समिति के अध्यक्ष जयप्रकाश अग्रवाल का कहना है कि ग्रास रूट स्तर से प्रस्ताव मंगवाकर घोषणा पत्र तैयार करने की कवायद चल रही है। कांग्रेस कोशिश कर रही है कि हर वर्ग उसके घोषणा पत्र से जुड़ाव महसूस करे। घोषणा पत्र समिति के सदस्य अभी तक आए प्रस्तावों का परीक्षण करने और उसे अंतिम रूप देने की कोशिश कर रहे हैं। घोषणा पत्र के प्रारूप को अंतिम रूप देने का काम समाज कल्याण मंत्री प्रो. किरण वालिया के नेतृत्व में चल रहा है। 

हालांकि अभी तय नहीं है कि घोषणा पत्र कब सार्वजनिक किया जाएगा। समिति के सदस्य घोषणा पत्र के लिए आए प्रस्तावों की फाइनल रीडिंग कर रहे हैं। जो प्रस्ताव या सुझाव घोषणा पत्र में शामिल किए जाने लायक हैं, उन्हें अंतिम रूप देने के बाद उन प्रस्तावों पर मुख्यमंत्री शीला दीक्षित तथा प्रदेश अध्यक्ष जयप्रकाश अग्रवाल के साथ भी चर्चा की जाएगी। 

सूत्रों के मुताबिक घोषणा पत्र तैयार करने के लिए विधानसभावार बैठकें की गई है। वहीं, एन.जी.ओ. और कर्मचारी संगठनों से भी बात की गई है। समिति घोषणा पत्र इस तरह तैयार कर रही है कि उससे समाज का हर तबका अपना जुड़ाव महसूस करे।कांग्रेस अपने घोषणा पत्र में राजनीतिक एजेंडा, सामाजिक कल्याण, परिवहन व्यवस्था, राजधानी के चौतरफा विकास, अल्पसंख्यकों के लिए कार्यक्रम, महिलाओं तथा बच्चों के विकास जैसे मुद्दे को फोकस करेगी।  

कांग्रेस ने भले ही चुनाव घोषणा पत्र बनाने के लिए समिति का गठन किया है, लेकिन घोषणा पत्र बनाने की बागडोर सरकार ने अपने हाथों में ले रखी है। घोषणा पत्र समिति के सदस्यों ने पब्लिक से लिए गए फीडबैक का परीक्षण कर प्रस्तावों को प्रो. किरण वालिया को सौंप भेज रहे हैं। सरकारी नुमाईंदे ही इसे अंतिम रूप देने की कोशिश कर रहे हैं।

 

 घोषणा-पत्र के वादे-

1. दिल्ली मेट्रो की सेवाओं का 300 किलोमीटर तक विस्तार।

2. तंग रास्तों में चलेगी मोनो रेल।

3. अत्याधुनिक लो-फ्लोर बसों की संख्या 1500 की जाएगी।

4. पुराने बस अड्डों का आधुनिकीकरण और नए बस अड्डों का होगा निर्माण।

5. नए फ्लाईओवरों का निर्माण किया जाएगा।

6. सिंग्नल मुक्त होगी रिंग रोड।

7. सड़कें होंगी चौड़ी।

8. शहरी गरीबों के लिए दस लाख आवास का निर्माण

9. झुग्गियों की जगह फ्लैट बनाकर देगी सरकार।

10. एक दर्जन नए अस्पतालों का होगा निर्माण।

11. दो हजार व्यक्तियों पर आशा की एक कार्यकत्र्ता।

12. एस.सी.,एस.टी., ओ.बी.सी. तथा अल्पसंख्यकों को विभिन्न योजनाओं के लिए कर्ज देगी सरकार।   

13.  76 लाख लोगों को मिलेगी खाद्य सुरक्षा योजना।   

 

Edited by:Jeta

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You