'मुर्दा पंजाब पुलिस में गिल ने फूंकी थी जान'

  • 'मुर्दा पंजाब पुलिस में गिल ने फूंकी थी जान'
You Are HereNational
Friday, November 01, 2013-5:07 AM

नई दिल्ली: श्री विजय कुमार चोपड़ा ने आज यहां में पंजाब में आतंकवाद का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने बेहद करीब और अपनी आंखों से सब कुछ देखा। उस दौरान हालात इतने खराब हो गए थे कि पुलिस का भट्ठा बैठ गया था  और वह एक तरह से मुर्दा हो गई थी।

लेकिन के.पी.एस. गिल के मोर्चा संभालते ही पंजाब पुलिस जिंदा हो उठी। ऐसा कह सकते हैं कि एक आदमी ऐसा निकला जिसने मुर्दा पुलिस में जान फूंक दी। के.पी.एस. गिल की पुस्तक ‘द पैरामाऊंट कॉप’ की लांचिंग के मौके पर श्री चोपड़ा ने कहा कि आतंकवाद के बुरे दौर में पंजाब केसरी ग्रुप पर हमला हुआ। 62 कर्मचारी, पत्रकार, सम्पादक व हॉकर मारे गए जबकि, 11 लोग जख्मी हुए। यह तो के.पी.एस. गिल की देन थी कि एकमात्र पंजाब केसरी अखबार लोगों तक पहुंचता था।

अखबार के प्रत्येक हॉकर के साथ पुलिस होती थी और अखबार को ले जाने वाली गाडिय़ों के साथ पुलिस की स्कॉट चलती थी। उन्होंने बताया कि उस दौर में जालंधर के एक डी.आई.जी. स्वर्ण मंदिर में माथा टेकने गया था, उसे मार दिया गया। कोई लाश उठाने को तैयार नहीं था। 5 बजे के बाद सभी बाजार बंद हो जाते थे और पुलिस स्टेशनों के गेट बंद हो जाते थे। 25 हजार लोग मारे गए और दिल्ली की सरकार सोती रही।

मोदी को गुजरात दंगों के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता: केपीएस गिल
नई दिल्ली: पंजाब के पूर्व पुलिस महानिदेशक केपीएस गिल ने आज कहा कि गुजरात में गोधरा कांड के बाद हुए दंगों के लिए मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता क्योंकि कानून व्यवस्था की स्थिति से निपटना पुलिस नेतृत्व का काम है।

गुजरात दंगों से जोड़कर सवाल पूछे जाने पर गिल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘कानून-व्यवस्था की स्थिति में कार्रवाई करना पुलिस नेतृत्व का काम है और यह काम राजनीतिक नेतृत्व का नहीं है।’’ साल 2002 में मोदी के सुरक्षा सलाहकार रह चुके गिल आज अपनी जीवनी ‘केपीएस गिल द पैरामाउंट कॉप’ के विमोचन के मौके पर बोल रहे थे।

इस मौके पर पंजाब केसरी समूह के प्रधान संपादक विजय कुमार चोपड़ा, इंडिया एक्सप्रेस के प्रधान संपादक शेखर गुप्ता, पूर्व सीबीआई निदेशक पीसी शर्मा एवं अन्य लोग मौजूद थे। पुस्तक में गिल ने मोदी की तारीफ करते हुए कहा है कि गुजरात के मुख्यमंत्री हिंसा खत्म करने के लिए गंभीर थे और उन्होंने दूसरे दलों पर मोदी को बदनाम करने का आरोप लगाया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You