राज्यपाल के दरबार पहुंचा आजम का स्टाफ से बदसलूकी का मामला

  • राज्यपाल के दरबार पहुंचा आजम का स्टाफ से बदसलूकी का मामला
You Are HereNational
Saturday, November 02, 2013-11:09 AM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री मो. आजम खान द्वारा मातहतों से किए गए दुव्र्यवहार मामले में मुख्यमंत्री या मुख्य सचिव से किसी निर्णय की कोई आशा दिखाई नहीं देने का आरोप लगाते हुए सामाजिक कार्यकत्र्ता उर्वशी शर्मा ने राज्यपाल बी.एल. जोशी को ज्ञापन भेजकर उनसे इस मामले में हस्तक्षेप कर मामले की त्वरित जांच कराकर नियमानुसार दण्डित कराने की मांग की है। उर्वशी ने कहा है कि मीडिया से प्राप्त समाचारों के मुताबिक आजम खां के निजी सचिव जीवन सिंह नेगी और विजय बहादुर सिंह, अतिरिक्त निजी सचिव अवधेश कुमार तिवारी, एम.एन. झा, सर्वेश कुमार मिश्रा, मो. नईम सिद्दीकी तथा एस. प्रजापति ने शासन को पत्र लिखकर अपने-अपने स्थानान्तरण की मांग तक कर डाली है।

सचिवालय प्रशासन के सचिव को लिखे पत्र में इन व्यक्तियों ने खां के व्यवहार पर यह आरोप लगाते हुए आपत्ति जताई है कि  खां प्राय: दुव्र्यवहार के साथ ही अपशब्दों का प्रयोग भी करते हैं। उत्तर प्रदेश सचिवालय संघ के अध्यक्ष यादवेन्द्र मिश्र ने भी इस मामले में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और मुख्य सचिव जावेद उस्मानी से हस्तक्षेप करने की मांग के साथ साथ यह अवगत भी कराया है कि सचिवालय के सभी निजी सचिव और निजी सचिवों ने खान के साथ काम नहीं करने का निर्णय लिया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You