ट्रेनों में भीड़ का बुरा हाल, स्लीपर डिब्बा बना जनरल क्लास

  • ट्रेनों में भीड़ का बुरा हाल, स्लीपर डिब्बा बना जनरल क्लास
You Are HereNational
Saturday, November 02, 2013-1:54 PM

 नई दिल्ली, (सुनील पाण्डेय) : दीपावली का त्योहार मनाने के लिए घर जाने वाले यात्रियों की रेलवे स्टेशनों पर  रेला लग गया है। इस दौरान महिलाओं, बच्चों व बुजुर्गों को ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। त्योहार में घर जाने के लिए यात्रियों को घंटों भूखे-प्यासे लाइन में खड़ा रहना पड़ रहा है। हालांकि लोगों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए राजधानी के विभिन्न रेवले स्टेशनों पर व्यवस्था बनाए रखने के लिए जरूरी प्रबंध किए गए हैं।

आरक्षित कोच और अनारक्षित कोच में अंतर करना मुश्किल हो गया। ट्रेनों में चढ़ने के लिए लोग एक दूसरे के ऊपर चढ़ कर कोच के अंदर दाखिल हो रहे थे। आज तो स्लीपर क्लास की स्थित अनारक्षित कोच से भी ज्यादा खराब थी। स्लीपर क्लास के गेट तक यात्री लटके हुए थे। जिन्हें बोगी में जगह नहीं मिल रही है, वे परिवार के साथ बाथरूम में घुसकर जगह बना रहे हैं। ये हाल अभी छठ के एक दिन पहले तक रहेगा।

रविवार 3 नवम्बर को दीपावली का त्योहार है, इसलिए इस त्योहार में शामिल होने के लिए जाने वालों की आज कोशिश थी कि वह किसी भी तरह से आज चले जाए। यही वजह थी कि आज पूर्वोत्तर की ओर जाने वाली ट्रेनों में तिल रखने तक की जगह नहीं थी। घर जाने वालों की भीड़ आज सुबह से ही स्टेशनों पर पहुंचनी शुरू हो गयी थी। जिनके पास रिर्जवेशन नहीं था वे तो ट्रेन के छूटने से चार-पांच घंटे पहले ही प्लेटफार्म पर पहुंच गए थे और कतार लगा कर खड़े थे।

 नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से जाने वाली बिहार सम्पर्क क्रांति ट्रेन आयी तो एेसा लगा जैसे इस ट्रेन में सवार होने के लिए यात्रियों का रेला पहुंचा हुआ है। ट्रेन के रूकते ही चढने वालों की रेलमपेल हो गई। धक्का-मुक्की शुरू हो गई और देखते-देखते पूरी ट्रेन फुल हो गयी। अनारक्षित कोच में उन्हें ही सीट मिला जिन्होंने अपनी जेबें ढीली की। इस कोच में पहले से ही कुछ लोग बैठे हुए थे और पैसे लेकर दूसरों को सीट दे रहे थे। केशव प्रसाद, दीनानाथ एवं सावित्री देवी ने आरोप लगाया कि 3 घंटे पहले आने के बाद भी 50-50 रूपये देकर सीट लेना पड़ा। बोगी में पहले से सीटों पर बैठे लोग खुलेआम पैसे देकर सीट बेच रहे हैं।

भगदड़ से बचने के लिए जवान तैनात:
प्रशासन ने भगदड़ से बचने के लिए स्टेशन पर जवान तैनात कर दिए हैं। इसके साथ ही प्लेटफॉम,फुट ओवर ब्रिज पर भगदड़ जैसी स्थिति न पैदा हो, इसके लिए आरपीएफ व आरपीएफएस के जवानों को भी मुस्तैद रखा गया है। आरपीएफ के जवान यात्रियों को कतार में खड़ा कर ट्रेन में चढ़ा रहे हैं। महिलाओं की सुविधा के लिए महिला जवानों को भी तैनात किया गया है।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You