रोना नहीं था पसंद तो बेटी को मार कर गटर में फेंका

  • रोना नहीं था पसंद तो बेटी को मार कर गटर में फेंका
You Are HereNational
Saturday, November 02, 2013-2:37 PM

नई दिल्ली : मध्य जिला के लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल (एल.एन.जे.पी.)के गटर में मिली बच्ची की लाश के मामले में पुलिस ने मृतक बच्ची की मां को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस से बचने के लिए आरोपी महिला ने बनाई थी अपनी ही एक कहानी। महिला ने बच्ची की गला घोंटकर हत्या की थी।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि 29 अक्तूबर की दोपहर एलएनजेपी अस्पताल के चाइल्ड केयर यूनिट वार्ड के ठीक पीछे जब अस्पताल का सफाई कर्मचारी मुकेश सफाई कर रहा था। उसे गटर में पड़ी एक बच्ची की लाश मिली थी। उसने तुरंत अस्पताल प्रशासन को इस बारे में सूचना दी थी। इसके बाद अस्पताल प्रशासन में हड़कंप मच गया था। अस्पताल अधिकारियों ने मौके पर आकर बच्ची के शव को गटर में पड़ा देखकर पुलिस कंट्रोल रूम को सूचित किया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर गटर से शव को बाहर निकाला। बच्ची तीन महीने की थी। जब पुलिस मौके पर ही लिखित कार्यवाई कर रही थी। उस वक्त एक महिला ने आकर बच्ची के शव को अपना बताया।

महिला ने अपना नाम गुडिय़ा बताया। उसने बताया कि वह बिहार के मधुबनी की रहने वाली है और अपने पति समीर के साथ मौजपुर इलाके में रहती है। उसने तीन महीने पहले जुड़वा बेटियों को जन्म दिया था। उसकी एक बेटी को नामोनिया की शिकायत होने पर उसे अस्पताल लाई थी। जिससे डॉक्टरों ने भर्ती कर लिया था। वह उसको छोड़कर दूसरी बेटी को साथ लेकर शौच के लिए चली गई थी। शौचालय के पास उसने अपनी बेटी को एक अंजान महिला को सौंप  दिया था। जब वह बाहर आई। उसने महिला को बेटी के साथ गायब पाया था। वह अपनी  बेटी को अस्पताल में ही ढूढ रही थी।

पुलिस ने उसके बयान दर्ज करने के बाद प्राथमिक जांच पर उसकी बातों पर शक हुआ था, लेकिन जांच में पता चला कि जब से गुडिय़ा के जुड़वा बेटी हुई थी। वह तभी से काफी परेशान थी। उसका पति समीर प्राइवेट नौकरी करके घर का पालन पोषण किया करता था। जब से जुड़वा बच्ची हुई थी तभी से वह परेशान था। जब पुलिस ने जांच के बाद एक बार फिर गुडिय़ा से गहन पूछताछ की तो उसने बच्ची की हत्या करने की बात मान ली।

उसने बताया कि जुड़वा लड़कियों के होने से वह काफी परेशान थी। दोनों बच्चियां रात को काफी रोती थी। जब अस्पताल एक बच्ची को भर्ती कराया। उस रात भी बच्ची काफी रो रही थी। जिससे उसने गुस्से में आकर बच्ची का गला घोंट दिया। उसकी लाश को ठिकाने लगाने के लिए अस्पताल के गटर में डाल दिया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You