आजम के व्यवहार के चलते नहीं बनना चाहता कोई CEO

  • आजम के व्यवहार के चलते नहीं बनना चाहता कोई CEO
You Are HereNational
Monday, November 04, 2013-11:17 AM

नई दिल्ली: विभागीय मंत्री आजम खां के खौफ का असर शिया व सुन्नी वक्फ बोर्ड पर भी देखने को मिला। प्रदेश में दो वक्फ बोर्ड शिया व सुन्नी वक्फ   में सीईओ के पद पर कोई भी अधिकारी आने को तैयार नहीं है और दोनों ही महत्वपूर्ण पद काफी समय से खाली पड़े हुए हैं। सरकार ने इन दोनों पदों को भरने के लिए विज्ञापन भी निकाला था लेकिन इसका भी कोई रिजल्ट सामने नहीं आया।

 

सीईओ का पद डेपुटेशन से भरा जाता है और इसके तहत विभिन्न सरकारी विभागों से अधिकारियों के आवेदन मांगे जाते हैं। इन आवेदनों में से ही अल्पसंख्यक विभाग सीईओ नियुक्ति करता है। लेकिन इस बार विज्ञापन देने के बाद भी सरकार को कोई योग्य अधिकारी नहीं मिला है क्योंकि अभी तक सिर्फ एक अभ्यर्थी ने ही आवेदन किया है।

 

सूत्रों के अनुसार अधिकारियों द्वारा आवेदन नहीं करने का कारण विभागीय मंत्री आजम खां के व्यवहार को माना जा रहा है। सूत्रों के अनुसार हाल ही में आजम खां के निजी सचिव व अन्य स्टाफ ने भी बगावत के सुर उठाए थे। एेसे में कोई भी रिक्त पदों को भरना सरकार के लिए एक चुनौती बन गया है। गौरतलब है कि वक्फ बोर्ड में सीईओ रिक्त पद के लिए हाईकोर्ट भी नाराजगी जता चुका है और अल्पसंख्यक विभाग को सीईओ की नियुक्ति करने के निर्देश दिए हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You