पटना ब्लास्ट: 'ऐनुल मेरा बेटा नहीं है उसने इस्लाम के नियम का उल्लंघन किया है'

  • पटना ब्लास्ट: 'ऐनुल मेरा बेटा नहीं है उसने इस्लाम के नियम का उल्लंघन किया है'
You Are HereNational
Monday, November 04, 2013-1:13 PM

पटना: पटना सीरियल ब्लास्ट के एक संदिग्ध ऐनुल अंसारी उर्फ तारिक की मौत के तीन दिन बाद भी उसके परिवार से कोई भी शव पर दावा करने नहीं आया है। पटना पुलिस अधीक्षक (रेलवे) उपेंद्र कुमार सिंह ने कहा, 'उसके परिवार से अभी तक कोई भी शव का दावा करने नहीं आया है।' सिंह ने बताया कि रेलवे पुलिस 72 घंटे तक ऐनुल के शव को शवगृह में रखेगी।  यदि इस बीच उसके किसी परिजन ने शव पर दावा नहीं किया तो उसके शव को इस्लामी रीति रिवाज के अनुसार दफना दिया जाएगा।

गौरतलब है कि पटना रेलवे स्टेशन पर 27 अक्टूबर को ऐनुल एक शौचालय में घायल अवस्था में पाया गया था। उसकी मौत इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान में शुक्रवार को हुई। उसका शव पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल के शवगृह में रखा हुआ है। ऐनुल के 70 वर्षीय पिता अताउल्ला अंसारी रांची के धुर्वा में रहते हैं। उन्होंने सार्वजनिक तौर पर घोषित कर दिया है कि वह शव को नहीं लेंगे। उन्होंने कहा, 'जब मैंने सुना कि वह आतंकवाद में शामिल था और गंभीर रूप से घायल है तभी मैंने घोषणा कर दी थी कि वह मेरा बेटा नहीं है। अताउल्ला ने कहा, 'ऐनुल ने इस्लाम के नियम का उल्लंघन किया है इसलिए वह मेरा बेटा नहीं है।'


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You