हड़ताल के बाद भी सही नहीं हुए सी.सी.टी.वी.

  • हड़ताल के बाद भी सही नहीं हुए सी.सी.टी.वी.
You Are HereNational
Monday, November 04, 2013-4:37 PM

नई दिल्ली : पश्चिमी दिल्ली के अम्बेदकर अस्पताल में डॉक्टरों की हड़ताल के बाद भी हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहें हैं। अस्पताल में सुरक्षा के नाम पर विशेष सुरक्षा दस्ता तो तैनात कर दिया है, लेकिन अस्पताल परिसर में लगे सी.सी.टी.वी. कैमरे अढ़ाई साल बीतने के बाद भी नहीं सही करवाए गए हैं जिससे अस्पताल सुरक्षा कभी भी सेंध लग सकती है। वहीं अस्पताल प्रशासन सी.सी.टी.वी. ठीक कराने के मुद्दे पर संबंधित विभाग को फाइल भेजने की बात कह मामले से पल्ला झाड़ रहा है।

क्या है परेशानी:
दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में दुष्कर्म, बच्चा चोरी और डॉक्टरों की मारपीट की वारदातें तेजी से बढ़ रही हैं। बावजूद इसके अम्बेदकर अस्पताल में पिछले अढ़ाई साल से सी.सी.टी.वी. कैमरे खराब है, लेकिन अस्पताल प्रशासन इन्हें ठीक कराने की जहमत नहीं उठा रहा है।

2 माह पहले अस्पताल में डॉक्टरों के साथ  मारपीट की घटना को अंजाम दिया गया था जिसके चलते 200 से ज्यादा रैजिडैंट डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे। यह हड़ताल लगातार 6 दिन चली थी जिसके बाद अस्पताल प्रशासन ने सुरक्षा इंतजामों को पुख्ता करने के लिए जल्द ही ठीक करवाने और गार्डों की संख्या बढ़ाने की बात कहीं थी। जो 2 माह बीत जाने के बाद भी पूरी नहीं की गई है।

डॉक्टरों ने रखी थी मांग:
हड़ताल पर गए डॉक्टरों ने भी अस्पताल परिसर में लगे सी.सी.टी.वी. कैमरों को ठीक करवाने की मांग की थी। डॉक्टरों ने हड़ताल खत्म करने से पहले कहा था कि कैमरों की संख्या को बढ़ाकर हर वार्ड में कैमरों को लगाया जाए और जितने कैमरे खराब स्थिति में हैं उन्हें 15 दिनों में ठीक करवाया जाए जिससे अस्पताल की सुरक्षा को पुख्ता किया जा सके।

अस्पताल में फिर हुई झड़प:
अस्पताल सूत्रों की माने तो गत मंगलवार को ओ.पी.डी. के दौरान अस्पताल में गार्ड और मरीज के साथ आए परिजनों की झड़प हो गई थी जिसके बाद मरीज के साथ आए परिजन ने सुरक्षा गार्ड के साथ धक्का-मुक्की और उनसे बदसलुकी की। पूरे मामले के दौरान सुरक्षाकर्मी के सहयोगी ओ.पी.डी. तक आते जब तक झगड़ा करने वाले अस्पताल से निकल चुके थे जिससे उन्हें नहीं पकड़ा जा सका।

डॉ. सी.एम. खानिजो, चिकित्सा अधीक्षक, अम्बेदकर अस्पताल का कहना है कि डॉक्टरों और मरीजों की सुरक्षा को देखते हुए खराब कैमरों की रिपोर्ट बनाकर तैयार कर संबंधित विभाग को सौंप दी गई है। विभाग की ओर से जल्द ही कैमरों को ठीक करा दिया जाएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You