सांसद की बीवी ने नौकरानी के दांत तोड़ डाले, छाती पर चढ़कर मारा

  • सांसद की बीवी ने नौकरानी के दांत तोड़ डाले, छाती पर चढ़कर मारा
You Are HereNcr
Wednesday, November 06, 2013-3:42 PM

नई दिल्ली (कुमार गजेन्द्र/कृष्ण कुणाल सिंह): उत्तर प्रदेश के बाहुबली व बसपा सांसद धनंजय सिंह की पत्नी जागृति किस कदर नौकरों पर जुल्म करती थी इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिटाई के कारण जब राखी की मौत हो गई थी तो उसे जबरदस्ती इलेक्ट्राल पिलाना चाहा। लेकिन मुंह नहीं खुला तो जबरदस्ती चम्मच मुंह में डाल दिया और उसके दांत तोड़ डाले। इससे भी उसका मन नहीं भरा तो उसने उसकी छाती पर पैरों से कई बार हमला किया। उसके पूरे शरीर पर चोट के और जलने के निशान मिले हैं।
 

घर पर एक अन्य नाबालिग नौकर रामफल ने बताया कि उसकी मालकिन उसके गुप्तांग को गर्म आयरन से जलाती थी। नाबालिग नौकर के भी कई जगहों पर जलने व चोट के निशान मिले हैं। दो दिन पहले ही उनके घर इलेक्ट्रिशयन आजाद गया था। उसने जब राखी और रामफल के साथ इस तरह मारपीट न करने की बात कही तो जागृति ने उसकी भी चप्पलों से पिटाई कर दी थी। नौकरों पर निगरानी रखने के लिए वह घर में करीब 20 सीसीटीवी लगा रखा था। यहां तक नौकर के बाथरूम में भी सीसीटीवी लगा रखा था।
 

सांसद की पहली पत्नी और नौकर की हो चुकी है संदिग्ध मौत: धनजंय सिंह का चरित्र शुरू से ही दागदार रहा है। उन पर हत्या, हत्या की कोशिश समेत दो दर्जन ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं। 2007 में उनकी पहली पत्नी की भी संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी जिसे बाद में खुदकुशी का मामला बताया गया। 2011 में जौनपुर स्थित उनके निवास पर संदिग्ध हालत में उनके नौकर भी मौत हो गई थी। लेकिन उस मामले का अब तक खुलासा नहीं हो सका। डॉ. जागृति के साथ उनकी दूसरी शादी हुई थी।

पुलिस अधिकारियों की मानें तो उनके खिलाफ यूपी में अप्रैल 2010 में दोहरे हत्या का आरोप लगा था। उस मामले में उन्हें गिरफ्तार भी किया गया था। हालांकि ज्यादातर मामलों में गवाहों के मुकर जाने के कारण वह बरी हो चुके हैं।  अनुशासनहीनता के कारण सितंबर 2011 में उन्हें पार्टी ने निलंबित दिया था। इससे पहले वह जौनपुर से दो बार विधायक भी रह चुके हैं।

दूसरी पत्नी से भी चल रहा है तलाक का मामला: आरोपी डॉ. जागृति धनंजय सिंह की दूसरी पत्नी हैं। पहली पत्नी के मौत के बाद धनंजय ने जागृति से दो साल बाद 2007 में शादी की थी। शादी के कुछ दिनों तक सब ठीक रहा। इस दौरान एक बेटा भी हुआ। लेकिन कुछ सालों से उनके रिश्ते में दूरी आ गई थी।

यही कारण है कि धनंजय सिंह के नाम पर आवंटित चाणक्यपुरी स्थित बंगला नंबर 175 में जागृति और उनका तीन साल बेटा रहता है। जबकि धनंजय सिंह अलग कोठी नंबर 126 में किराए पर रहते हैं। पिछले सात महीने से दोनों के बीच कोर्ट में तलाक का मामला चल रहा है। मंगलवार को जागृति ने उन्हें फोन करके यही बताया था कि राखी छत से गिर गई है जिस कारण उसकी मौत हो गई। हालांकि जांच में पता चला कि सांसद धनंजय ने भी सबूत मिटाने की कोशिश की थी।

 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You