इसरो मंगलयान को ऊपरी कक्षा में पहुंचाने की तैयारी में, भारत पछाड़ सकता है चीन को

  • इसरो मंगलयान को ऊपरी कक्षा में पहुंचाने की तैयारी में, भारत पछाड़ सकता है चीन को
You Are HereNational
Thursday, November 07, 2013-10:51 AM

चेन्नई: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के महत्वकांक्षी मंगल अभियान की सफल शुरआत के बाद वैग्यानिक अब मंगलयान को वर्तमान से ऊपरी कक्षा में पहुंचाने की तैयारी में लग गये हैं। इसरो से जुडे सूत्रों ने बताया कि मंगलयान की कक्षा उन्नयन के काम के लिए यान पर लगी एक मोटर को कल सुबह जागा जायेगा। इसके बाद यान 4000 किलोमीटर ऊपर उठ जायेगा और 28785 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थापित हो जायेगा।

यान की लाल ग्रह की यात्रा शुर होने से पहले यान की कक्षा उन्नयन का यह काम बहुत महत्वपूर्ण है और इस संबंध में यान की कक्षा में सबसे आखिर में किये जाने वाला उन्नयन काफी अहम होगा क्योंकि इसी के बाद यान की मंगल ग्रह की यात्रा का आरंभ होगा। मंगलयान ने सफल प्रक्षेपण के बाद इसरो प्रमुख के राधाकृष्णन ने पत्नी तथा संगठन के अन्य अधिकारियों के साथ आज तिरमला में भगवान वेंकटेश्वर के मंदिर में पूजा अर्चना की।
 
मंगलयान के लॉन्च के बाद अपनी प्रतिक्रिया में चीनी सरकार ने कहा कि अंतरिक्ष में लंबी शांति और दीर्घकालिक विकास के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय को साथ मिलकर काम करने की जरूरत है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता होंग ली से जब भारत के मार्स मिशन को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने रिपोर्टरों से कहा, 'बाहरी अंतरिक्ष को पूरी मानवजाति द्वारा साझा किया जाता है। हर देश को अंतरिक्ष का इस्तेमाल करने और वहां शांतिपूर्ण तरीके से खोज कामों को अंजाम देने का अधिकार है।'


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You