प्रशासन ने कि नानुकर, 5.22 मिनट पर खुले स्टेडियम के ताले

  • प्रशासन ने कि नानुकर, 5.22 मिनट पर खुले स्टेडियम के ताले
You Are HereNational
Thursday, November 07, 2013-11:24 AM

धर्मशाला: अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम धर्मशाला पर करीब ग्यारा दिन के बाद एचपीसीए को स्टे मिल जाने से कब्जे का खेल बुधवार को खत्म हो गया। सरकार और एचपीसीए के बीच चल रहे गतिरोध के बाद क्रिकेट एसोसिएशन के हाथ अब तक यह पहली और बड़ी जीत लगी है, जिससे भाजपा एवं एचपीसीए से जुड़े लोग काफी खुश हैं। इसी के चलते बुधवार को उच्च न्यायालय के फैसले कि प्रतिलिपि लेकर एचपीसीए के प्रवक्ता संजय शर्मा व कार्यकर्ता जिलाधीश कार्यालय पहुचे व अतिरिक्त दण्डा अधिकारी राकेश शर्मा के द्वारा जिलाधीश काँगड़ा को उच्च न्यायालय के फैसले कि प्रतिलिपि सौंपी।

विभागीय कार्यवाही के बाद करीब 4.10 पर सभी औपचारिकताए पूरी होने के बाद एचपीसीए के अंतर रास्ट्रीय क्रिकेट स्टेडयम को जिलाप्रशासन ने जिस तरहा स्टेडियम को अपने अधीन किया था व स्टेडियम के हर गेट पर पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे उन्हें हटा कर स्टेडियम को हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ को सौंप दिया। एचपीसीए प्रवक्ता संजय शर्मा का कहना है अधिकारियो को उच्च न्यायालय के फैसले कि प्रतिलिपि करीब 1.20 मिनट पर सौंपी गई थी लेकिन प्रशासन ने उसके बाद भी काफी नानुकर करने के बाद 5.22 मिनट पर गेट खोलने कि अनुमति दी।

संजय ने कहा कि एचपीसीए के गेट तो खुलवा लिए गए है लेकिन प्रॉपर टेकओवर एचपीसीए तभी करेगी जब प्रशासन पूरे सामान कि लिस्टिंग करवाएंगी। संजय ने कहा कि जिस तरह प्रशासन ने स्टेडियम को टेकओवर करते हुए सारे सामान कि गिनती कि थी उसी तरह एचपीसीए भी स्टेडियम को टेकओवर करने से पहले सभी सामान कि गिनती करवाएगा व उसके साथ उसकी वीडियोग्राफी भी कि जाएंगी। संजय ने कहा कि अब एचपीसीए स्टेडियम को आम लोगों के लिए खुला रखेंगे और अब स्टेडियम में मैच उससे भी अधिक संख्या में करवाए जाएंगे ताकि सरकार को करारा जवाब दिया जा सके।

गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम धर्मशाला पर प्रदेश सरकार ने 26 अक्तूबर की देर रात करीब अढ़ाई बजे पुलिस का पहरा लगाकर कब्जा कर लिया था। 27 को सुबह हिमाचल और गोवा की रणजी टीमों के बीच मैच खेले जाने निर्धारित थे, लेकिन अचानक हुई कार्रवाई के बाद मैच में विघ्न पड़ गया और दोपहर तीन बजे मैच शुरू हो पाया था। इतना ही नहीं सरकार ने एचपीसीए की दखलअंदाजी समाप्त करने और सामान की गिनती के लिए गेटों पर ताले लगाकर स्टेडियम को बंद कर दिया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You