टिकट के रण में जीते तीन नेताओं के शहजादे

  • टिकट के रण में जीते तीन नेताओं के शहजादे
You Are HereNcr
Thursday, November 07, 2013-12:11 PM

नई दिल्ली (सतेन्द्र त्रिपाठी): वंशवाद का विरोध करने वाली भाजपा ने इस बार तीन नेताओं के शहजादों को टिकट से नवाजा है।   टिकट का रण जीतने वाले दो शहजादे मौजूदा विधायकों के बेटे है। अपने पुत्रों को राजनीति में आगे बढ़ाने के लिए इन्होंने अपनी सीट छोड़ दी है। तीसरा टिकट हासिल करने वाले शहजादे पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा के पुत्र है।

राजनीति विरासत को पाने में चौथा बेटे विमल खुराना दौड़ में पीछे छूट गए। इसके पीछे तर्क यह दिया जा रहा है कि उनके पिता पूर्व मुख्यमंत्री मदनलाल खुराना खुद हाशिये पर है। इसके चलते उनकी पैरवी करने वाला कोई मजबूत व्यक्ति नहीं था। टिकट पाने में पहला नंबर पर भाजपा के दिग्गज नेता विजय कुमार मल्होत्रा के बेटे अजय मल्होत्रा का है। उन्हें पिता की ग्रेटर कैलाश सीट से ही किस्मत आजमाने का मौका मिला है। विजय कुमार मल्होत्रा इस बार लोकसभा चुनाव लडऩे की तैयारी में है। इसी कारण उन्होंने विधानसभा चुनाव लडऩे से मना कर अपनी सीट बेटे को दिला दी।

दूसरा नाम पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा के बेटे प्रवेश वर्मा का है। वह पिता की  सीट शालीमार बाग से चुनाव लडऩा चाहते थे, लेकिन पार्टी तीन बार के विधायक रविन्द्र बंसल का टिकट नहीं काट सकी।इसके बावजूद प्रवेश को फिर मौका भी मिला। उन्हें महरौली जाट बाहुल्य सीट से चुनाव लडऩे के लिए मैदान में उतारा गया है। वह दिल्ली विधानसभा में कांग्रेस के दिग्गज विधायक व स्पीकर डॉ.योगानंद शा को चुनौती देंगे। उन्हें टिकट देकर पार्टी ने उनके चाचा उत्तरी दिल्ली से मेयर आजाद सिंह भी टिकट उड़ा दी है।

तीसरा नंबर तिलक नगर से विधायक ओपी बब्बर के बेटे राजीव बब्बर का है। ओपी बब्बर ने भी चुनाव लडऩे से मना करके बेटे को लड़ाने के लिए मुहिम छेड़ रखी थी। वह यह लड़ाई जीत गए है।

Edited by:Jeta

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You