‘‘नमो बनाम रागा’’ संगीतमय नहीं बल्कि बेसुरा: येचुरी

  • ‘‘नमो बनाम रागा’’ संगीतमय नहीं बल्कि बेसुरा: येचुरी
You Are HereNational
Sunday, November 10, 2013-8:28 AM

नई दिल्ली: माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि चुनाव व्यक्तियों के बजाय मुद्दों पर लड़े जाने चाहिए। उन्होंने ‘‘नमो बनाम रागा (नरेंद्र मोदी एवं राहुल गांधी के बीच विवाद)’’ को ‘‘बेसुरा’’ कहकर वर्णित किया। येचुरी ने कहा कि, ‘‘मुद्दों के बजाय आप पाते हैं कि यह नमो रागा है। आमतौर पर राग संगीतमय होता है लेकिन यह बेसुरा है।’’ माकपा नेता ने यहां इंडियन वूमैन प्रेस कोर में कहा कि व्यक्तियों की बजाय मुद्दों पर ध्यान केन्द्रित करने की जरूरत है।

 

उन्होंने कहा, ‘‘अगले चुनाव में हमारा नारा होगा, नेता नहीं, नीति नई।’’ सवालों के जवाब में माकपा नेता ने कहा कि उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में दंगों से निपटने के तरीके से प्रसन्न नहीं है तथा यह बात धर्मनिरपेक्ष पार्टियों के सम्मेलन में उन्हें अवगत करा दी गई है।

 

येचुरी ने कहा कि यह सम्मेलन ऐसे समय में धर्मनिरपेक्ष ताकतों को एकजुट करने के लिए आयोजित किया गया था जबकि सांप्रदायिक विभाजन को बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You