चुनाव में गड़बडिय़ां रोकने के लिए प्रशासन सतर्क

  • चुनाव में गड़बडिय़ां रोकने के लिए प्रशासन सतर्क
You Are HereNational
Sunday, November 10, 2013-3:27 PM

मुरैना: इस माह होने वाले विधानसभा चुनाव में चम्बल संभाग में प्रचार और मतदान के दौरान गड़बडिय़ों की आशंका के बीच प्रशासन ने इस जिले में 414 अति संवेदनशील मतदान केन्द्र चिह्नित किए हैं तथा चुनावी हिंसा रोकने के लिए केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल सहित अन्य अद्र्ध सैनिक बलों के जवानों को तैनात किया जाएगा।

आधिकारिक तौर पर बताया गया है कि दस्यु प्रभावित मुरैना जिले में 25 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव को निष्पक्ष और शांतिपूर्वक सम्पन्न कराने के लिए जिला प्रशासन ने 414 अति संवेदनशील मतदान केन्द्रों पर चुनावी हिंसा रोकने के लिए केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों को तैनात करने का निर्णय लिया है, जबकि 904 सामान्य मतदान केन्द्रों पर जिला एवं विशेष सशस्त्र बल के दो-दो जवान निगरानी रखेंगे।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रघुवंश सिंह ने ‘भाषा’ को बताया कि जिले के दो विधानसभा क्षेत्रों सुमावली और दिमनी में सर्वाधिक संवेदनशील मतदान केन्द्र चिह्नित किए गए है। यहां अर्ध सैनिक बलों की तैनाती के साथ-साथ उडऩदस्ते भी निरंतर निगरानी रखेंगे। पुलिस ने सीमावर्ती क्षेत्रों में गश्त बढ़ा दी है, साथ ही चंबल नदी में मोटरबोट से गश्त कराई जा रही है, ताकि राजस्थान एवं उत्तर प्रदेश के बदमाश नदी पार कर अभी से इन क्षेत्रों के गांवों में आकर छिप नहीं पाएं।

उन्होंने बताया कि चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद पुलिस ने 807 स्थायी वारंटियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है और सात हजार से अधिक लोगों पर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की गई है। अपराधियों के खिलाफ पुलिस द्वारा चलाए गए विशेष अभियान के तहत पुलिस ने 67 अवैध हथियार और 87 कारतूस बरामद किए हैं, जबकि 16 आदतन अपराधियों को जिला बदर और आठ के विरुद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (रासुका) के तहत कार्रवाई की गई है।

सिंह ने बताया कि जिला पुलिस ने जिला बदर के 76 और रासुका के 24 प्रकरण जिला दंडाधिकारी को प्रस्तावित किये हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव में हथियारों का उपयोग रोकने के लिऐ जिले के करीब 28 हजार लाइसेंसी हथियारों को विभिन्न पुलिस थानों और आम्र्स डीलरों के यहां जमा करा लिया गया है, जबकि करीब 200 लाइसेंसधारियों ने अपने शस्त्र जमा नहीं किए हैं। उनके शस्त्र लाइसेंस निरस्त कर उनके खिलाफ शस्त्र अधिनियम के तहत शस्त्रों की जब्ती की कार्रवाई की जा रही है।
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You