उम्मीदवारों के खाते पर रहेगी चुनाव आयोग की नजर

  • उम्मीदवारों के खाते पर रहेगी चुनाव आयोग की नजर
You Are HereNcr
Monday, November 11, 2013-12:45 PM

नई दिल्ली: विधान सभा चुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरू होते ही प्रत्याशियों के बैंक के खातों की निगरानी करनी भी दिल्ली चुनाव आयोग ने शुरू कर दी है। उम्मीदवारों के खातों पर आयोग पैनी नजर रखे हुए है। अगर कोई प्रत्याशी एक बार में अपने खाते से एक लाख रुपए से अधिक की राशि निकालता है तो आयोग उस पैसे के इस्तेमाल की गहन जांच-पड़ताल करेगा। यह जानकारी आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी है।

मिली जानकारी के मुताबिक अगर कोई उम्मीदवार खाते से एक लाख रुपये से अधिक खर्च करने का ब्यौरा आयोग को देता है, तो उसके प्रूफ में सौंपे गए सभी कागजात की गहन जांच की जाती है। हालांकि अधिकारी के अनुसार खर्च की गई राशि के हर ब्योरे की पड़ताल समान पैमाने से की जाती है। लेकिन यदि एक लाख से ज्यादा का खर्च एक साथ दर्शाया जाता है, तो उम्मीदवार के खर्च पर संदेह होना स्वाभाविक है।

आयोग के अनुसार प्रचार के दौरान झंडे, बैनर, पोस्टर, लाउडस्पीकर, गाड़ी, मीडिया में विज्ञापन, रैली, सभा और कार्यालय का खर्च प्रमुख मद होते हैं। झंडे और पोस्टर की गुणवत्ता को लेकर कई बार सवाल खड़े हो जाते हैं। रैली के खर्च की भी सही जानकारी नहीं मिल पाती है। हालांकि इन दिनों नामांकन दाखिल करने के दौरान सभी उम्मीदवारों को एक सूची दी जा रही है जिसमें बताया गया है कि किस वस्तु पर किस मद से पैसा जोड़ा जाएगा।  मंच स्थल पर अगर सामूहिक किचन की व्यवस्था की गई है, तो इसका भी खर्च उम्मीदवार के चुनाव प्रचार के खर्च के साथ जोड़ा जाएगा।

गौरतलब है कि चुनाव प्रचार के लिए एक उम्मीदवार अधिकतम खर्च 14 लाख रुपए कर सकता है। प्रचार के लिए इससे ज्यादा खर्च करने पर इसे आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा और प्रत्याशी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You