लोकतंत्र की हुई जीत, नक्सली धमकियों के बावजूद 70% मतदान

  • लोकतंत्र की हुई जीत, नक्सली धमकियों के बावजूद 70% मतदान
You Are HereNational
Tuesday, November 12, 2013-1:26 PM

रायपुर: छत्तीसगढ़ में सोमवार को पहले चरण का मतदान अधिकांश जगहों पर शांतिपूर्वक संपन्न हुआ। इसमें 18 सीटों के लिए वोट डाले गए और इन्हीं सीटों के परिणाम से फैसला हो जाएगा कि सूबे में अगली सरकार किसकी बनेगी। वर्तमान में इन सीटों में 15 सीटें भारतीय जनता पार्टी(भाजपा)और तीन कांग्रेस के पास हैं। मतदान के बाद दोनों ही दल इसे अपने-अपने पक्ष में बताकर अपने-अपने दावे करने लगे हैं।

 

पहले चरण के मतदान के लिए राज्य के नक्सल प्रभावित बस्तर और राजनांदगांव क्षेत्र के 13 सीटों पर दोपहर बाद तीन बजे तक लगभग 70 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर लिया था। वहीं राज्य के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों ने मतदान दल पर हमला कर दिया था जिसमें सीआरपीएफ के एक जवान की मौत हो गई थी। पिछले विधानसभा चुनावों में भाजपा 11 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। इलाके से कांग्रेस ने जो एकमात्र सीट जीती थी, वह कोंटा की थी। कोंटा से कवासी लखमा विजयी हुए थे। वह इस बार भी प्रत्याशी हैं।

 

इस सीट पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने भी अपना प्रत्याशी मैदान में उतारा था। इसके अलावा पहले चरण में जिन छह अन्य सीटों पर चुनाव हुए, वे राजनांदगांव जिले की हैं। इनमें से चार सीटें भाजपा के कब्जे में हैं, जबकि कांग्रेस के हिस्से में केवल दो सीटें हैं। इसी इलाके से खुद मुख्यमंत्री रमन सिंह भी चुनाव मैदान में हैं। कुछ क्षेत्रों छिटपुट घटनाओं को नक्सलियों ने अंजाम दिया। दूसरी ओर राज्य के कांकेर जिले में नक्सलियों ने इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन लूट लिया।

 

कांकेर जिले में मतदान दल पर हमला किया गया और प्रेशर बम विस्फोट से एक जवान घायल हो गया। छत्तीसगढ़ में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने छत्तीसगढ़ में 50 सीटें जीतीं थी और कांग्रेस ने 38 सीटें। पहले चरण में जिन सीटों पर मतदान हुए उन्हें अलग कर दिया जाए तो छत्तीसगढ़ विधानसभा में भाजपा और कांग्रेस दोनों के हिस्से 35-35 सीटें बचती हैं। अधिकारियों ने बताया कि पुलिस ने बीजापुर के मुरकीनार क्षेत्र से 10 किलोग्राम का पाईप बम, दंतेवाड़ा जिले के मांगनार से आठ बम, कुंआकोंडा से दो बम, नारायणपुर के ओरछा क्षेत्र में एक टिफिन बम और कांकेर के बांदे थाना क्षेत्र से एक बम बरामद किया है।

 

राज्य के संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी डी डी सिंह ने आज यहां भाषा को बताया कि बस्तर क्षेत्र के 12 तथा राजनांदगांव के एक विधानसभा सीट पर सुबह सात बजे से मतदान प्रारंभ हुआ है तथा दोपहर बाद तीन बजे तक मतदान होगा। वहीं पांच अन्य सीटों पर सुबह आठ बजे मतदान प्रारंभ हुआ है तथा शाम पांच बजे तक मतदान कराए जाएंगे। सिंह ने बताया कि राज्य के कोंडागांव जिले के बलिंगा मतदान केंद्र के पीठासीन अधिकारी राजेंद्र महापात्र का आज सुबह दिल का दौरा पडऩे से निधन हो गया है। आयोग ने यहां अन्य अधिकारी को तैनात कर दिया है।

 

मतदान केंद्र में मतदान जारी है। अधिकारी ने बताया कि कांकेर जिले के अंतागढ़ विधानसभा क्षेत्र के कोयलीबेड़ा तहसील के पानीडोबीर गांव के दो मतदान केंद्रों का स्थान बदलकर गुडाबेडा गांव में किया गया है। दोनों मतदान केंद्रों में मतदान जारी है। इधर राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि राज्य के कांकेर जिले में नक्सली हमले की वजह से मतदान केंद्र दुर्गापुर और सितरम में मतदान प्रारंभ नहीं हो सका। दुर्गापुर में नक्सलियों ने रास्ते में मतदान दल से इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन लूट लिया वहीं सितरम मतदान के लिए रवाना हुए मतदान दल पर भारी गोलीबारी के कारण मतदान दल को लौटना पड़ा।

 

वहीं कांग्रेस के महासचिव मुकुल वासनिक ने कहा कि बस्तर से मिल रही जमीनी जानकारी में इन 18 सीटों पर कांग्रेस की जबर्दस्त सफलता के संकेत मिले हैं। यह जीरम घाटी नक्सली हमले में शहीद हुए कांग्रेस नेताओं की सच्ची श्रद्धांजलि है। गौरतलब है कि हमले में मारे गए कांग्रेस नेता महेंद्र कर्मा की पत्नी देवकी कर्मा को दंतेवाड़ा और उदय मुदलियार की पत्नी अलका मुदलियार को राजनांदगांव से टिकट दिया गया। दोनों ही अपने प्रतिद्वंद्वियों को कड़ी टक्कर देने में काफी हद तक सफल रहे हैं।

 

दूसरी ओर, लगातार तीसरी बार चुनाव जीतने की मुहिम में जुटे मुख्यमंत्री रमन सिंह, सहानुभूति बटोरने की कांग्रेस की कोशिशों से अब तक पूरी तरह से बेफिक्र दिखे। उनका तो दावा है कि पार्टी ने पिछले चुनाव में बस्तर की 12 में से 11 सीटें जीतीं थी, लेकिन इस बार सभी 12 सीटों पर भाजपा को विजय मिलेगी।

 

छत्तीसगढ़ में शांतिपूर्ण मतदान के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों के जवानों को तैनात किया गया था और रविवार को ही मतदान दलों को मतदान केंद्रों के लिए रवाना कर दिया गया था। राज्य में विधानसभा चुनाव में अन्य दल भी अपना भाग्य आजमाया लेकिन मुख्य मुकाबला सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के मध्य है। अन्य 72 सीटों पर इस महीने की 19 तारीख को मतदान होगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You