भाजपा की 60 सीटों में से 26 पर मचा है बवाल

  • भाजपा की 60 सीटों में से 26 पर मचा है बवाल
You Are HereNational
Tuesday, November 12, 2013-12:32 PM

नई दिल्ली (धनंजय कुमार): बागियों को मनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने डैमेज कंट्रोल कमिटी तो बना ली है, लेकिन अभी तक डैमेज कंट्रोल होने के बजाय और बढ़ता ही जा रहा है। 

आलम यह है कि हर दिन कभी प्रदेश भाजपा कार्यालय के बाहर तो कभी प्रदेश चुनाव प्रभारी नितिन गडकरी से लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह व राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेतली के आवास के बार हर रोज विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। टिकट नहीं मिलने से नाराज दावेदारों का न सिर्फ पार्टी से इस्तीफा जारी है, बल्कि कई दावेदार दूसरी राजनीतिक पार्टियों का दामन थामने की तैयारी कर चुके हैं।
 
वहीं कुछ दावेदार ऐसे भी हैं, जो किसी और राजनीतिक पार्टी का दरवाजा खटखटाने के बजाय निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में भाग्य आजमाने पर विचार कर रहे हैं। पूर्व निगम पार्षद सविता गुप्ता को पार्टी ने किसी तरह मनाकर वापस बुला लिया लेकिन मटियाला विधानसभा क्षेत्र से टिकट मांग रही कमलजीत सहरावत अभी तक नाराज चल रही है। चर्चा है कि कमलजीत इंडियन नैशनल लोकदल के टिकट से चुनाव लड़ सकती हैं।
 
आर.के. पुरम विधानसभा क्षेत्र से टिकट मांग रहे प्रदेश मंत्री लखीराम शर्मा निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में अपनी ही पार्टी के प्रत्याशी अनिल शर्मा को चुनौती देने के मूड में हैं। इधर, टिकट कटने से नाराज हरशरण सिंह बल्ली पहले ही हरिनगर विधानसभा क्षेत्र से हर हालात में ताल ठोकने को तैयार हैं। विरोध प्रदर्शन व दल-बदल की होड़ 60 सीटों में से 26 विधानसभा सीटों पर मची है।
 
इतनी ज्यादा सीटों पर मचे बवाल को देख पार्टी के बड़े नेताओं की परेशानी बढऩे लगी है। बड़े नेताओं को इस बात का डर सताने लगा है कि गोयल को हाशिए पर धकेल डॉ. हर्षवर्धन को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में सामने लाने के बाद जो गुटबाजी बढ़ी है, उसे पूरी तरह से शांत भी नहीं किया जा सका है और इसी बीच विधानसभा चुनाव के टिकटों पर मचे बवाल को कैसे शांत किया जाए।
Edited by:Jeta

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You