बेवजह परेशान कर रहा केंद्र : आप

  • बेवजह परेशान कर रहा केंद्र : आप
You Are HereNational
Tuesday, November 12, 2013-3:33 PM

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी (आप) ने विदेशों से मिले पैसों की जांच का आदेश देने पर सरकार की आलोचना करते हुए उसे परेशान करने का आरोप लगाया और कहा कि उसने कोई कानून नहीं तोड़ा है।

इसके साथ ही पार्टी ने अन्य राजनीतिक दलों के खिलाफ भी ऐसी ही जांच कराए जाने की मांग की। गृह मंत्री सुशीलकुमार शिंदे ने आज कहा कि कई शिकायतें मिलने के बाद आप के खिलाफ जांच के आदेश दिए गए हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि ऐसी जांच में समय लगता है और संकेत दिया कि ऐसी जांच के नतीजे दिल्ली विधानसभा चुनाव के पहले नहीं आ सकेंगे।

आप ने एक बयान में कहा, आप अपने कोषों की जांच के संबंध में केंद्रीय गृह मंत्री के बयान का स्वागत करती है। हम स्वागत करते हैं कि कोई प्राधिकार आए और हमारे खातों की जांच करे क्योंकि यह नई, पारदर्शी और ईमानदारी की राजनीति है जिसका अनुसरण आप कर रही है।

अरविन्द केजरीवाल नीत पार्टी ने कहा कि वह ईमानदारी और स्वच्छ राजनीति के पक्ष में है तथा महसूस करती है कि राजनीतिक वित्तपोषण के स्रोतों की जांच देश में राजनीतिक तंत्र के लिए बेहतर है। केजरीवाल ने कहा कि जांच पूरी होने के 48 घंटों के बाद इसकी रिपोर्ट सार्वजनिक कर दी जानी चाहिए।

जांच के लिए सरकार की तेजी पर संदेह जाहिर करते हुए आप ने कहा कि पिछले 65 साल में क्या कांग्रेस ने भाजपा के कोषों की जांच कराने की मांग की है? आप नेताओंं ने कहा कि जांच की मांग के समय से संकेत मिलता है कि कांग्रेस और भाजपा की आपस में ‘‘साठगांठ’’ है।

पार्टी के एक नेता ने कहा कि भाजपा नेता अरूण जेतली ने आप को विदेशों से धन मिलने का मुद्दा उठाया था। उसी समय दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने भी आप के कोषों की जांच करवाए जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि आप पर हमला बोलने के लिए कांग्रेस और भाजपा दोनों मिलकर रणनीति बना रहे हैं।

आज होगा अगले कदम पर फैसला:
अरविंद केजरीवाल पर अडिय़ल और गैर लोकतांत्रिक तरीके से आम आदमी पार्टी को चलाने का आरोप लगाने वाले आप  पार्टी के कार्यकत्र्ता राकेश अग्रवाल आज एक प्रैसवार्ता कर अपने अगले कदम की घोषणा करेगे।

सूत्रों के मुताबिक आप पार्टी के कार्यकत्र्ता पार्टी से जुड़े कुछ वित्तीय घोटालों का भी खुलासा कर सकते है।  बताया जा रहा है राकेश अग्रवाल के पार्टी के कुछ कार्यकत्र्ता या विधानसभा में प्रत्याशी बने लोग पार्टी से इस्तीफा भी दे सकते हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You