अमित जोगी, रेणु जोगी को कोटा सीटों पर कांग्रेस की जीत का भरोसा

  • अमित जोगी, रेणु जोगी को कोटा सीटों पर कांग्रेस की जीत का भरोसा
You Are HereNational
Tuesday, November 12, 2013-3:12 PM

मरवाही/कोटा (छत्तीसगढ़): छत्तीसगढ़ की मरवाही और कोटा विधानसभा सीटों पर भाजपा सरकार के कार्यकाल में कोई विकास न होने और सौतेला व्यवहार किए जाने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस प्रत्याशी अमित जोगी और रेणु जोगी विश्वास जताते हैं कि इन सीटों पर इस बार कांग्रेस ही जीतेगी। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की परंपरागत सीट मरवाही से उनके पुत्र अमित और कोटा सीट से पत्नी डॉ रेणु जोगी कांग्रेस की प्रत्याशी हैं। अमित और जोगी न सिर्फ मरवाही और कोटा में बल्कि पूरे प्रदेश में कांग्रेस की 10 साल के वनवास से वापसी के लिए धुआंधार प्रचार कर रहे हैं। मरवाही अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीट है। रेणु कोटा से सीट से विधायक हैं और दूसरे कार्यकाल के लिए प्रयासरत हैं।

 

अजीत जोगी इस बार चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। जब पृथक छत्तीसगढ़ अस्तित्व में आया था तो नए राज्य का पहला मुख्यमंत्री अजीत जोगी को बनाया गया था। इसके ठीक एक साल बाद, वर्ष 2003 में हुए विधानसभा चुनावों में भाजपा की सरकार बनी और अगले चुनावों में भी कांग्रेस सत्ता पर नहीं आ पाई। मरवाही में मतदाताओं केा लुभाने के लिए सघन जनसंपर्क करने वाले अमित जोगी को इस बार राज्य में कांग्रेस की वापसी का पूरा भरोसा है।

 

उन्होंने बिलासपुर से करीब 140 किमी दूर पेन्ड्रा में प्रचार से अलग कहा ‘‘हमें मरवाही सीट तथा राज्य की और सीटें जीतने का पूरा भरोसा है। मुझे विश्वास है कि इस बार कांग्रेस की ही सरकार राज्य में बनेगी।’’ अमित आरोप लगाते हैं कि प्रदेश की रमन सिंह सरकार केंद्र सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का श्रेय स्वयं लेकर जनता के साथ छल कर रही है। उन्होंने कहा ‘‘रमन सिंह सरकार ने यहां (मरवाही) की जनता के लिए कुछ नहीं किया। न किसानों को मुफ्त बिजली का वादा पूरा किया गया और न ही विकास कार्य हुए।’’ अमित की योजना दूसरी सीटों पर भी प्रचार करने की है।

 

‘‘मरवाही में सिर्फ 3 दिन प्रचार करूंगा और फिर दूसरी जगह जाउंगा। मेरे पिता राज्य की 32 सीटों पर और मैं 40 सीटों पर प्रचार करेंगे।’’ अजीत जोगी की पत्नी रेणु भी कोटा सीट पर कांग्रेस के प्रचार में जुटी हैं। इस सीट से दूसरी बार किस्मत आजमा रही रेणु का आरोप है ‘‘भाजपा ने इस विधानसभा सीट के साथ सौतेला व्यवहार किया है। सड़कों की हालत खराब है क्योंकि ज्यादातर सड़कें दस साल पहले कांग्रेस के शासनकाल में बनी हैं (जब अजीत जोगी मुख्यमंत्री थे)।’’

 

बिलासपुर से करीब 130 किमी दूर पटेराटोला गांव में प्रचार कर रही रेणु ने कहा कि लोग केंद्र कांग्रेस सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं और भाजपा सरकार के कुशासन के बारे में जान गए हैं। जोगी परिवार की एक अन्य सदस्य भी चुनाव प्रचार में लगी हैं। यह हैं अमित जोगी की पत्नी रिचा जोगी जो पति और सास के लिए वोट मांग रही हैं। रिचा ने कहा ‘‘मैं लोगों से मिल कर उन्हें केंद्र द्वारा उनके कल्याण के लिए चलाई जा रही योजनाओं के बारे में बता रही हूं।

 

कांग्रेस इस बार पूरे बहुमत से सत्ता में लौटेगी।’’ मरवाही और कोटा सीटों से भाजपा प्रत्याशियों को भी जीत का भरोसा है। कोटा से भाजपा प्रत्याशी काशीराम साहू ने कहा ‘‘मैं भी चुनाव जीतूंगा और रमन सिंह भी तीसरी बार मुख्यमंत्री बनेंगे।’’ उन्होंने कहा कि जनता रमन सिंह की अगुवाई वाली भाजपा सरकार के बेहतर प्रशासन के मॉडल को वोट देंगे। उनकी बात से मरवाही सीट से भाजपा प्रत्याशी समीरा पैकरा ने सहमति जताई।

 

उन्होंने कहा ‘‘हम लोगों को बता रहे हैं कि राज्य सरकार ने उनके कल्याण के लिए कौन कौन सी योजनाएं चलाई हैं। हम इस बार भी जीतेंगे। मरवाही की जनता मुझे चुनेगी।’’ पिछले विधानसभा चुनाव में अजीत सिंह ने मरवाही सीट से भाजपा के ध्यान सिंह पोर्ते को 42,092 मतों के अंतर से हराया था। उनकी पत्नी रेणु ने कोटा सीट पर भाजपा के मूलचंद खंडेलवाल को 9,811 मतों के अंतर से हराया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You